featured यूपी

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में होने जा रही वार्षिक परीक्षा, कक्षा 1 से 8 तक के छात्र होंगे शामिल

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में होने जा रही वार्षिक परीक्षा, कक्षा 1 से 8 तक के छात्र होंगे शामिल

लखनऊ: उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद प्राथमिक स्कूलों में परीक्षाएं करवाने जा रहा है। इन्हीं के आधार पर छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट किया जाएगा। इस वार्षिक परीक्षा में कक्षा 1 से लेकर 8 तक के छात्र शामिल होंगे, जिनका मूल्यांकन इसमें किया जाएगा।

25 और 26 मार्च को होगी परीक्षा

इस वार्षिक परीक्षा का आयोजन 25 और 26 मार्च को किया जाएगा। जबकि इसका परिणाम 31 मार्च को घोषित होगा। इसी परिणाम के बाद सभी छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट करने की व्यवस्था कर दी जाएगी। कोरोना के कारण शिक्षा व्यवस्था पर बड़ा बुरा असर पड़ा है, इसीलिए वार्षिक परीक्षाएं भी प्रभावित हुई हैं।

अलग-अलग तरीके से छात्रों का होगा मूल्यांकन

बेसिक शिक्षा परिषद इस वार्षिक परीक्षा के माध्यम से छात्रों का सामान्य मूल्यांकन करने की तैयारी कर रहा है। इसमें कक्षा 1 और 2 के छात्रों का मौखिक परीक्षा के माध्यम से परिणाम आएगा, यह परीक्षा 30 मिनट की होगी।

इसके अतिरिक्त अन्य छात्रों को लिखित परीक्षा के माध्यम से परिणाम दिए जाएंगे। कक्षा 3 से लेकर 5 तक के सभी विद्यार्थियों का मूल्यांकन बहुविकल्पीय प्रश्न पत्र के आधार पर होगा। इसमें कुल 50 प्रश्न पूछे जाएंगे और 1 घंटे की समय सीमा निर्धारित होगी।

कक्षा 6 और 7 के विद्यार्थी अति लघु उत्तरीय 50 प्रश्नों के माध्यम से परीक्षा देंगे। इसकी समय सीमा डेढ़ घंटे निर्धारित की गई है। वहीं कक्षा आठ के छात्र सभी विषय से जुड़े प्रश्नों का उत्तर लिखेंगे। जिनमें बहुविकल्पीय और अति लघु उत्तरीय प्रश्न भी होंगे।

समिति के माध्यम से तैयार होंगे प्रश्न पत्र

प्रश्न पत्र तैयार करने के लिए सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को उचित निर्देश दे दिए गए हैं। एक समिति के माध्यम से प्रश्न पत्रों को तैयार किया जाएगा। उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन अलग-अलग स्तर पर होगा। कक्षा 3 से लेकर 7 तक के छात्रों की कॉपी विद्यालय में चेक की जाएगी। जबकि कक्षा आठ के विद्यार्थियों की कॉपी दूसरे विद्यालय के शिक्षकों द्वारा जांची जाएगी।

कक्षा आठ के बच्चों को उनके परीक्षा परिणाम के साथ-साथ रिपोर्ट कार्ड भी दिया जाएगा। पूरी प्रक्रिया को संपन्न करवाने के लिए अलग-अलग अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। जिन्हें इस काम को जल्द से जल्द पूरा करना होगा।

Related posts

प्रेग्नेंसी में कोरोना वैक्सीन लगवाना रिस्की, मां-बच्चे दोनों की जान को खतरा !

Rahul

विराट कोहली की इंस्टाग्राम अवॉर्ड वाली सेल्फी, आपने देखी क्या?

rituraj

भोले के भक्त की सड़क हादसे में मौत

Breaking News