अनिल के0 रतूड़ी ने पुलिस महानिदेशक के साथ वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए समीक्षा बैठक ली

देहरादून। सोमवार दिनांक 09 अप्रैल 2018 को अनिल के0 रतूड़ी, पुलिस महानिदेशक, उत्तराखण्ड द्वारा उत्तराखण्ड के सभी जनपद प्रभारियों व परिक्षेत्र प्रभारियो के साथ आगामी दिनांक 10 अप्रैल 2018 को प्रस्तावित आरक्षण विरोधी कार्यक्रम, बैशाखी, अम्बेडकर जयंती एवं सोमवती अमवस्या पर्व के अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माघ्यम से प्रदेश की कानून व्यवस्था बनाये रखने के सम्बन्ध में समीक्षा बैठक ली।

बता दें कि रतूड़ी ने बताया कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय नई दिल्ली द्वारा अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अधिनियम पर पारित आदेश के विरोध में कतिपय संगठनों द्वारा दिनांक 2 अप्रैल 2018 को भारत बंद का आहवान किया गया था जिस दौरान देश के विभिन्न शहरों, उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती जनपदों के साथ-साथ राज्य में भी कुछ स्थानों पर बद कराने का प्रयास, सड़क जाम, तोड़-फोड़, आपसी टकराव आदि घटनायें घटित हुयी थी। जिसमें स्थानीय पुलिस द्वारा आवश्यक वैधानिक कार्यवाही करते हुये शान्ति व्यवस्था बनाये रखी।

वहीं उपरोक्त सम्बन्ध में सोशल मीडिया पर चल रहे वार्तालाप एवं अन्य श्रोतों के माध्यम से विदित हो रहा है कि दिनांक 10 अप्रैल 2018 को कुछ व्यक्ति/समूह आरक्षण के विरोध में प्रर्दशन कर सकते है यद्यपि अभी तक इसमें कोई संगठन सामने नही आया है परन्तु सोशल मीडिया के माध्यम से प्रदर्शन सम्बन्धित सन्देश प्रसारित हो रहे है। जिसके लिए हमे तैयार रहना है तथा दिनांक 13 एवं14 को अप्रैल बैसाखी पर्व, 14 अप्रैल को अम्बेडकर जयन्ती एवं 16 अप्रैल को सोमवती अमावस्या के दृष्टिगत अधिक सर्तकता बरतने की आवश्यकता है जिससे शान्ति व्यवस्था बनी रहें। रतूड़ी एवं श्री अशोक कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक, अपराध एवं कानून व्यवस्था द्वारा वीडियों कॉन्फ्रेसिंग में निम्न बिन्दुओं पर दिशा-निर्देश निर्गत कियेः-

1-समस्त जनपद प्रभारी स्थानीय अभिसूचना तंत्र से समन्वय स्थापित कर उन्हें सर्तक रखते हुये सूचना संकलित करने हेतु निर्देशित किया गया।

2-समस्त जनपद प्रभारियों को जनपदों में गठित सोशल मीडिया मॉनिटरिंग सेल की कार्यकुशलता बढ़ाते हुये सोशल मीडिया पर किये जा रहे प्रचार/दुसप्रचार पर विशेष ध्यान दिया जाये एवं आवश्यकता अऩुसार वैधानिक कार्यवाही की जाने हेतु भी निर्देशित किया गया।

3-ऐसे व्यक्ति जो उपद्रव कर सकते है या लोगों को भड़काकर गलत रास्ते पर ले जा सकते है को चिन्हित करते हुये उन्हें शान्ति व्यवस्था के हित में उनके विरूध समय से निरोधात्मक व दण्डात्मक कार्यवाही की जाये तथा 107/116 सीआरपीसी में पाबन्द्घ किया करवाया जाये।

4-अफवाहों को किसी भी दशा में फेलने न दिया जाये, सोशल मीडिया पर निरन्तर निगरानी रखी जाये यदि कोई भ्रामक सूचना फैलायी जाती है तो तुरन्त उसका प्रतिरोध किया जाये तथा भ्रामक सूचना फैलाने वाले के विरुद्ध कार्यवाही की जाये।

5-जनपद के थाना/चौकी, पुलिस लाईन, कार्यालयों एवं शाखाओं में नियुक्त अधिक से अधिक पुलिस बल को कानून व्यवस्था ड्यूटी में नियुक्त किया जाये।

6- पुलिस बल के पास वीडियोग्राफी की व्यवस्था हो एवं समस्त कार्यवाही की वीडियोग्राफी करायी जाये।

7-धार्मिक स्थलों एवं गणमान्यों व्यक्तियों की प्रतिमाओं की सुरक्षा हेतु ऑपरेशन क्लीन-स्वीप चलाया जाये।

8-जिलाअधिकारी से समन्यव स्थापित करते हुये जनपदों में थाना/सर्किल स्तर पर शान्ति समिति की बैठक आयोजित की जाये।

9-अम्बेडकर जयन्ती के अवसर पर आयोजित होने वाली शोभायात्रा एवं जुलूस की जानकारी कर ली जाये एवं सुनिश्चित कर लिया जाये की शोभायात्रा एवं जुलूस परम्परागत मार्ग से ही निकला जाये किसी भी दशा में शोभायात्रा एवं जुलूस में कोई भी परिवर्तन न किया जाये।

10-बैशाखी एवं सोमवती अमवस्या के अवसर पर जनपद हरिद्वार में काफी श्रदालुओं का अवागमन रहेगा जिसके लिये यातायात एवं शान्ति व्यवस्था हेतु कार्ययोजना तैयार कर ली जाये जिससें मार्गों पर जाम की स्थिति उत्पन्न ना हो सके।

इस अवसर पर अशोक कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक, अपराध एवं कानून व्यवस्था, वी0 विनय कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक, अभिसूचना/सुरक्षा, राम सिंह मीणा, अपर पुलिस महानिदेशक, प्रशासन, दीपम सेठ, पुलिस महानिरीक्षक, अपराध एवं कानून व्यवस्था, ए0पी0 अनशुमन, पुलिस महानिरीक्षक, पीएसी, जी0 एस0 मार्तोलिया, पुलिस महानिरीक्षक मुख्यालय, एवं केवल खुराना, पुलिस उपमहानिरीक्षक/निदेशक यातायात सहित अन्य पुलिस अधिकारी उपस्थित रहे।