c900af9b 8416 46e7 8ad9 77b828d3dad0 अखिलेश यादव ने सरकार पर साधा निशाना, कहा- बड़े मिया तो बड़े मियांए छोटे मियां सुभान अल्लाह
फाइल फोटो

लखनऊ। कृषि कानून के विरोध में किसान आंदोलन को करीब दो महीने होने को आए है। लेकिन अभी तक किसानों और सरकार के बीच कृषि कानूनों को लेकर कोई समाधान नहीं निकल पाया है। किसान अपनी मांगों को लेकर दिल्ली के चारों ओर डटे हुए हैं। इसके साथ ही किसानों के समर्थन में विपक्षी दल सरकार पर हमलावर हो रहे हैं। इसी बीच अखिलेश यादव को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है। अखिलेश ने एक बार फिर मंगलवार को बीजेपी पर बड़ा हमला बोला है। अखिलेश ने कहा कि बीजेपी सरकार किसानों की तबाही का जश्न मना रही है। बीजेपी सरकार ने बीते 6 सालों में किसानों को फूटी कौड़ी का लाभ नहीं पहुंचाया है। किसानों के साथ-साथ राजनीतिक दल भी सरकार को लगातार निशाने पर बनाए हुए हैं।

चीनी मिलों पर करोंड़ो रुपये का बकाया- अखिलेश

बता दें कि अखिलेश ने कहा कि गन्ना समर्थन मूल्य तो बढ़ाया नहीं गया, ऊपर से मिलों में करोड़ों रुपये का बकाया हो गया है। अयोध्या में मसौधा और रौजागांव चीनी मिलों पर किसानों का 50.38 करोड़ रुपये बकाया है। उन्होंने कहा कि गोण्डा की बजाज चीनी मिल पर किसानों का पिछले वर्ष का 146 करोड़ रुपये बकाया है। प्रदेश में अभी भी आठ हजार करोड़ रूपये से ज्यादा गन्ना किसानों का मिलों पर बकाया है। 14 दिनों में बकाया भुगतान ब्याज समेत देने का दावा करने वाली बीजेपी सरकार को भुगतान करने में क्यों देरी हो रही है, इसका जवाब देना चाहिए।

किसानों की जमा पूंजी का लूटने का इंतजाम- अखिलेश यादव

इसके साथ ही अखिलेश ने आगे कहा कि एमएसपी देना तो दूर की बात सरकार ने किसानों के पास जो जमा पूंजी है उसे भी लूटने का इंतजाम कर लिया है। किसानों के सिर पर खेती जमीन-जायदाद जाने का खतरा भी मंडरा रहा है। विडम्बना तो यह है कि प्रदेश में बीजेपी की डबल इंजन सरकार के समय तो यह कहावत चरितार्थ हो रही है, बड़े मिया तो बड़े मियां, छोटे मियां सुभान अल्लाह। बीजेपी सरकार ने बीते 6 सालों में किसानों को फूटी कौड़ी का लाभ नहीं पहुंचाया है। अखिलेश ने कहा कि किसानों का ना तो आय दोगुनी हुई और ना ही लागत का मूल्य मिला।

पीएम मोदी की चर्चा में शामिल हुए सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, वैक्सीनेशन को लेकर अधिकारियों को दिए सख्त निर्देश

Previous article

WHO की चेतावनी: नहीं हो रहा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, टीकाकरण के बाद भी 2021 में हर्ड इम्युनिटी नहीं

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.