featured यूपी

तलवार दी गई पर चलाने का अधिकार नहीं: अखिलेश यादव

akhilesh 1 1 तलवार दी गई पर चलाने का अधिकार नहीं: अखिलेश यादव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) की स्थापना के रजत जयंती समारोह में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव के बीच का टकराव एक बार फिर सामने आया। अखिलेश ने कहा, “तलवार तो देते हो पर उसे चलाने का अधिकार नहीं देते। जब तलवार दी गई है तो चलाऊंगा ही।” शिवपाल ने अपने भाषण के दौरान अखिलेश यादव पर जमकर वार किया और कहा कि उन्हें मुख्यमंत्री का पद नहीं चाहिए और जरूरत पड़ने पर वह अपना खून भी देने को तैयार हैं। शिवपाल के बाद जब अखिलेश ने माइक संभाली तो उन्होंने भी पलटवार करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

akhilesh_1

लखनऊ के जनेश्वर पार्क में आयोजित कार्यक्रम में अखिलेश ने राममनोहर लोहिया के एक बयान का सहारा लेकर पलटवार किया। उन्होंने कहा, “लोहिया जी ने कहा था कि लोग सुनेंगे जरूर, लेकिन मेरे मरने के बाद। मैं दूसरे शब्दों में कह रहा हूं कि लोग समाजवादी पार्टी की सुनेंगे जरूर, लेकिन पार्टी के बिगड़ने के बाद।”

इशारों में अपने दर्द को बयान करते हुए अखिलेश ने कहा, “आप लोग मुझे तलवार भेंट करते हो, लेकिन चाहते हो कि तलवार नहीं चलाऊं। विचारधारा को बचाने के लिए तलवार चलानी जरूरी है।”

उन्होंने कहा, “मैं परीक्षा देने को तैयार हूं, नेताजी ने यह पार्टी बहुत संघर्ष और खून-पसीना बहाकर बनाई है, मैं उन्हें धन्यवाद करता हूं। हमने काफी लंबा रास्ता तय किया है और अब हम समाजवादी पार्टी को नए स्तर पर ले जाएंगे। हमें साथ मिलकर यह काम करना होगा। किसी को परीक्षा देने की जरूरत नहीं है, किसी को परीक्षा देनी है तो मैं तैयार हूं।”

अखिलेश ने भरोसा जताया कि सपा को आगामी विधानसभा चुनावों में जीत हासिल होगी और उनकी ही पार्टी की सरकार बनेगी। उन्होंने कहा, “उप्र का आगामी विधानसभा चुनाव देश के सियासी भविष्य को तय करेगा। मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि हम दुबारा सत्ता में आएंगे और सांप्रदायिक ताकतों को कामयाब नहीं होने देंगे।”

उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधते हुए कहा कि इस पार्टी ने लोगों के बीच दूरियां पैदा की हैं। उप्र ने भाजपा को 70 से ज्यादा सांसद दिए पर इस प्रदेश को विकास का लाभ नहीं मिला। उन्होंने सपा सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए कहा कि सबसे ज्यादा लैपटॉप बांटा, महिला पेंशन और विकास के अनेक कार्य किए हैं।

अखिलेश ने साफ किया कि वह विकास के एजेंडे पर ही चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि तरक्की के रास्ते के अलावा लोगों की भलाई का और कोई तरीका नहीं है।

उन्होंने कहा, “सपा को कभी कंप्यूटर विरोधी कहा जाता था, लेकिन आज हम लैपटॉप और स्मार्टफोन बांट रहे हैं। समाजवादी विचारधारा ही हर वर्ग के लोगों को आगे बढ़ाएगी। विकास के रास्ते पर चलकर ही लोगों की जिंदगी बदलेगी।”

Related posts

जम्मू-कश्मीरः आतंकियों की नापाक हरकत, घर में घुसकर SPO को मारी गोली

pratiyush chaubey

प्रसाद ने भेजा निरुपम को नोटिस

Breaking News

मुलायम सिंह ने चुनाव आयोग से मांगा वक्त

kumari ashu