12 00000 सरकार के खिलाफ विधानसभा का घेराव करेगी शिअद, पार्टी बैठक में फैसला

चंडीगढ़। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और शिरोमणि अकाली दल के नेता सुखबीर सिंह बादल ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर किसानों की पूर्ण कर्ज माफी पर यू टर्न लेने का आरोप लगाते हुए विधानसभा का घेराव करने का ऐलान किया है। अकाली नेता ने 20 मार्च को अकाली के कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर विधानसभा का घेराव करने और पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने का ऐलान करते हुए कहा कि हम सरकार पर दबाव बनाएंगे कि वो किसानों से किया वादा पूरा करे। ये फैसला पार्टी की कोर कमेटी की बैठक में लिया गया है। सुखबीर सिंह बादल की अध्यक्षता में हुई बैठक में कहा गया है कि राज्य सरकार ने किसानों के साथ भेदभाव और असंवेदनशील बर्ताव किया है।12 00000 सरकार के खिलाफ विधानसभा का घेराव करेगी शिअद, पार्टी बैठक में फैसला

बैठक में कहा गया कि पंजाब सरकार अपने वादों को न पूरा करने के लिए बहानों का सहारा ले रही है। कमेटी में कहा गया है कि क्या सरकार को वादे पूरे करने से पहले प्रदेश की आर्थिक स्थिति का अंदाजा नहीं था, जो उसने 1500 करोड़ रुपये का प्रावधान कर दिया। बादल ने कहा कि अब सरकार 370 करोड़ रुपये बांटने का झूठा वादा कर रही है। बैठक के दौरान किसानों की समस्याओं के समाधान को पार्टी प्रधान सुखबीर बादल की अगुवाई में एक हाई पावर कमेटी बनाने का फैसला किया गया। इसमें रंजीत सिंह ब्रह्मïमपुरा, सुखदेव ढींडसा, बलविंदर सिंह भूंदड़, तोता सिंह और प्रो. प्रेम सिंह चंदूमाजरा होंगे।

कमेटी ने प्रस्ताव पास कर पंजाब दौरे और यहां के लोगों के लिए दिखाए प्रेम और सम्मान के लिए कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का आभार जताया। ट्रूडो ने अपने दौरे के दौरान दरबार साहिब में भी मत्था टेका। प्रस्ताव में कहा गया है कि पंजाबी, खासतौर पर सिख ट्रूडो, कनाडा सरकार और वहां के लोगों के आभारी हैं, जिन्होंने पंजाबियों को सम्मान दिया। पंजाबी भी कनाडा को दूसरा घर मानते हैं। अकाली दल के प्रवक्ता हरचरन बैंस ने बताया कि कोर कमेटी ने इस बात पर खेद जताया कि सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दुखद मुद्दे उठाने के लिए ट्रूडो के दौरे का समय चुना। उन्होंने ऐसे मुद्दे भी उठाए जो उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं थे

हार के बाद ‘शत्रु’ ने दी बीजेपी को यह सलाह

Previous article

लालू को मिला अररिया से गोरखपुर तक अपार प्यार

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.