ग्लासगो फिल्म फेस्टिवल में भी छाई ‘लिपस्टिक अंडर माई बुर्का’

नई दिल्ली। यूं तो लिपस्टिक अंडर माई बुर्का को भारत में सेंसर बोर्ड की मनाही झेल नी पड़ रही है वहीं दूसरी ओर यह फिल्म अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खूब अवॉर्ड बटोरने में लगी हुई है।

आपको बता दें की इस फिल्म का निर्देशन अलंकृता श्रीवास्तव ने किया है और फिल्म के प्रड्यूसर प्रकाश झा है। हाल ही में हुए ग्लासगो इंटरनेश्नल फिल्म फेस्टिवल में इस फिल्म को तीसरे ऐनुअल ऑडियंस अवॉर्ड से नवाजा गया है। अलंकृता ने इस अवॉर्ड के मिलने पर अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा है कि फिल्म को मिला यह अवॉर्ड साबित करता है की फिल्म कितनी सही है। खासकर तब जब सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म को असंस्कारी बताते हुए सर्टिफिकेट देने से इंकार कर दिया।

बता दें कि लिपस्टिक अंडर माई बुर्का की कहानी छोटे शहरों की 4 लड़कियों की ख्वाहिशों के ऊपर आधारित है और जो समाज के अपने बंधनो से मुक्त होना चाहती है। बता दें की ग्लासगो फिल्म फेस्टिवल के अलावा यह फिल्म मामी फिल्म फेस्टिवल में लिंग समानता पर बनी सर्वश्रेष्ठ ऑक्सफेम अवॉर्ड, टोक्यो फिल्म फेस्टिवल में भी स्पिरिट ऑफ एशिया का खिताब अपने नाम कर चुकी है। इस फिल्म में कोंकणा सेन शर्मा, रत्न पाठक शाह, आहना कुमार और प्लाबिता बोरठाकुर मुख्य भूमिकाओं में है।

ये भी पढ़ेंः

‘लिपस्टिक अंडर माई बुर्का’ पर फतवा जारी !

‘लिपस्टिक अंडर माई बुर्का’ पर सेंसर बोर्ड चला सकता है कैंची