November 30, 2021 8:32 am
Breaking News featured देश राज्य

शपथ समारोह के बाद बोले पीएम, त्रिपुरा के मतदाताओं ने इतिहास रच दिया

pm modi 00000 3 शपथ समारोह के बाद बोले पीएम, त्रिपुरा के मतदाताओं ने इतिहास रच दिया

अगरतला। त्रिपुरा में 25 सालों तक राज करने वाली वामपंथ के किले को धराशाही करते हुए भगवा रंग के सूर्य का उदय राज्य में हो चुका है। त्रिपुरा में बीजेपी के पहले मुख्यमंत्री बिप्लब देब राय ने अपने मंत्रियों के साथ पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। इस दौरान पीएम मोदी समेत, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, मुरली मनोहर जोशी और बीजेपी शासित सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ त्रिपुरा के पूर्व मुख्यमंत्री माणिक सरकार मौजूद रहे। शपथ ग्रहण समारोह के बाद पीएम मोदी ने लोगों को संबोधित किया। पीएम ने स्थानीय भाषा में अपने संबोधन कि शुरुआत करते हुए कहा कि त्रिपुरा में सालों बाद आज दिवाली लग रही है।pm modi 00000 3 शपथ समारोह के बाद बोले पीएम, त्रिपुरा के मतदाताओं ने इतिहास रच दिया

पीएम ने कहा कि त्रिपुरा का चुनाव लंबे समय तक लोगों को याद रहेगा क्योंकि यहां कि युवा शक्ति यहां के मतदाताओं ने इतिहास रचा है। त्रिपुरा में विकास की नई उमंग और उत्साह पैदा हुई है। उन्होंने कहा कि त्रिपुरा के लिए सबको मिलकर काम करना चाहिए। त्रिपुरा में विपक्ष के पास लंबा अनुभव है, लेकिन हमारी टीम नई है। पीएम ने इस अवसर पर चुने गए सभी प्रतिनिधियों को शुभकामनाएं दी और सबका साथ सबका विकास का मंत्र दिया। पीएम ने कहा कि अब त्रिपुरा ही देश की हर समस्या का समाधान निकालेगा। उन्होंने आगे कहा कि जनता जनार्दन होती है और त्रिपुरा की ये सरकार सबके लिए है, जिसने हमे वोट दिया उसके लिए भी और जिसने हमे वोट नहीं दिया उसके लिए भी। पीएम ने कहा कि अब समय बदल चुका है और उत्तर पूर्व के लोगों के प्रति देशवासियों का लगाव बढ़ा है।

आपको बता दें कि उत्तर पूर्व राज्य त्रिपुरा में बीजेपी के पहले मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब आरएसएस से जुड़े रहे हैं और वे बीजेपी के अब तक के सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं।गौरतलब है कि बीजेपी ने 60 सदस्यीय विधानसभा में 35 सीटें हासिल कीं वहीं उसकी सहयोगी जनजातीय पार्टी आईपीएफटी ने आठ सीटों पर कब्जा जमाया है। इस तरह वाम गढ़ में दो तिहाई बहुमत से बीजेपी की सरकार बनने जा रही है। माकपा ने 16 सीटें जीती हैं जबकि कांग्रेस अपना खाता खोलने में नाकाम रही और एक सीट पर किसी कारणवश चुनाव नहीं हो पाया था। वहीं दूसरी तरफ जिस दिन से त्रिपुरा में बीजेपी की सरकार आई है उसी दिन से वामपंथियों के खिलाफ हमले तेज हो गए हैं।

Related posts

दिल्ली के राबिया स्कूल के कई छात्रों को स्कूल फीस न देने पर काफी देर तक बेसमेंट में रखा

Rani Naqvi

नोएडा में आज से आयोजित होगा आईएचजीएफ दिल्ली मेले का 52वां संस्करण , 90 देशों ने कराया रजिस्ट्रेशन

Rani Naqvi

राम जन्मभूमि पर छाया कोरोना का संकट, मंदिर के पुजारी समेत 16 पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित

Rani Naqvi