September 17, 2021 5:23 am
featured Breaking News देश

आखिरकरा निर्भाया को मिला इंसाफ, तिहाड़ जेल में निर्भया के चारों दरिंदों को दी गई फांसी

निर्भया के दोषी 2 आखिरकरा निर्भाया को मिला इंसाफ, तिहाड़ जेल में निर्भया के चारों दरिंदों को दी गई फांसी

नई दिल्ली।: निर्भया गैंगरेप कांड में हुआ इंसाफ। तिहाड़ जेल के फांसी घर में सुबह 5.30 बजे दी गई चारों दोषियों विनय, अक्षय, मुकेश और पवन गुप्ता को एक साथ फांसी। पोस्टमार्टम को भेजे गए शव। साल 2012 में चलती बस में हुई थी निर्भया के साथ दरिंदगी।

दिल्ली के दिल में सात साल पहले जिस निर्भया के साथ दरिंदगी हुई थी, उसे आज इंसाफ मिल गया है. निर्भया भले ही इस पल को देखने के लिए इस दुनिया में ना हो लेकिन देश की करोड़ों बेटियां इस खुद को मिले इंसाफ के तौर पर देख रही हैं. शुक्रवार सुबह 5.30 बजे तिहाड़ जेल में निर्भया के चारों दोषियों को फांसी के फंदे पर लटका दिया गया. लेकिन इससे पिछली रात दोषियों के वकीलों की ओर से फांसी टालने के लिए हर प्रयास किया गया था, हाई कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट उन्होंने हर-तरफ कोशिश की लेकिन कामयाबी नहीं मिली.

 

  1. गुरुवार दोपहर को पटियाला हाउस कोर्ट से डेथ वारंट को खारिज करने की याचिका को रद्द कर दिया गया. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने भी मुकेश सिंह की याचिका को खारिज कर दिया था, जिसके बाद फांसी का रास्ता साफ हुआ.
  2. शाम होते-होते निर्भया के दोषियों के वकील एपी सिंह ने पटियाला हाउस कोर्ट के फैसले के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट का रुख किया. जिसके बाद हाई कोर्ट ने रात को नौ बजे इस मामले पर सुनवाई शुरू की.
  3. दिल्ली हाई कोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान वकील एपी सिंह की ओर से डेथ वारंट को टालने की अपील की गई, लेकिन अदालत ने कहा कि उनके पास कोई कानूनी दलील नहीं है जिसपर ये फैसला हो सके.
  4. कोर्ट में वकील एपी सिंह ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते कई जगह कोर्ट बंद हैं, इसलिए उनकी याचिकाएं नहीं सुनी जा रही हैं. एपी सिंह ने अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में भी याचिका दायर की थी. लेकिन दिल्ली हाई कोर्ट ने इन तथ्यों को डेथ वारंट रोकने के लिए काफी नहीं माना.
  5. देर रात को 12 बजे दिल्ली हाई कोर्ट ने इस याचिका को खारिज कर दिया और फांसी के आदेश का पालन करने को कहा. इस फैसले के तुरंत बाद एपी सिंह ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया.
  6. रात को करीब एक बजे एपी सिंह सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार के घर पहुंचे और उनकी याचिका पर तुरंत सुनवाई की अपील की. इस दौरान उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले की कॉपी उन्हें नहीं मिल रही है ताकि सुनवाई होने में देरी हो सके.

निर्भया केस: फांसी से पहले विनय ने नहीं बदले कपड़े-रोते हुए मांगी माफी

  1. रात को करीब ढाई बजे सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस भानुमति की अगुवाई में तीन जजों की बेंच ने इश मामले को सुना. ऐसा तीसरी बार ही हुआ है, जब सुप्रीम कोर्ट किसी मामले को सुनने के लिए आधी रात को बैठी हो.
  2. एपी सिंह ने दिल्ली हाई कोर्ट की तरह ही सुप्रीम कोर्ट में कमजोर दलीलें दी. कोरोना वायरस का बहाना बनाकर कई कोर्ट में याचिकाओं के होने का हवाला दिया, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इन दलीलों को खारिज कर दिया.
  3. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आपके पास ऐसे कोई कानूनी तर्क नहीं हैं, जिससे ये राष्ट्रपति के द्वारा खारिज की गई दया याचिका पर सवाल खड़े किए जा सकें. इसी के बाद अदालत ने करीब साढ़े तीन बजे याचिका को खारिज कर दिया.
  4. सभी कानूनी रास्ते बंद होने के बाद सुबह 4 बजे तिहाड़ जेल में निर्भया के चारों दोषी अक्षय, विनय, मुकेश और पवन गुप्ता को फांसी के लिए ले जाया गया. फांसी से पहले उन्हें नहाने के लिए कहा गया, नए कपड़े दिए गए और कुछ खाने को दिया गया.
  5. किसी भी दोषी ने अपनी आखिरी इच्छा नहीं बताई. और ठीक 5.30 बजे तिहाड़ के फांसी घर में पवन जल्लाद ने चारों दोषियों को फांसी के फंदे पर लटका दिया. इसी के साथ पिछले सात साल तीन महीने और तीन दिन से चल रहे निर्भया मामले के दोषियों को सजा मुकर्रर हुई.
  6. करीब पांच से सात मिनट के बाद डॉक्टरों ने चारों दोषियों को मृत घोषित कर दिया. तिहाड़ जेल के लॉकडाउन को बंद कर दिया गया और सभी दोषियों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया.

Related posts

अपूर्वा की मां ने कहा कि वह नहीं चाहती थी रोहित से शादी करना, बताई यह वजह

bharatkhabar

मैनपुरीः शिवपाल सिंह यादव ने कहा बेईमानों को हटाना चाहता था  लेकिन हट गए हम.

mahesh yadav

राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने 32वें राज्य स्थपना दिवस पर लोगों को दी बधाई

Rani Naqvi