maharashtra भारत का असरः महाराष्ट्र और ओडिशा में रोकी गई ट्रेनें, आंध्र प्रदेश में भी प्रदर्शन

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की तरफ से भारत बंद किया गया है. जिसका असर दिल्ली के साथ-साथ और भी कई जगहों पर देखा जा रहा है. जहां दिल्ली पुलिस ने सुरक्षा को बढ़ा दिया है. वहीं केंद्र ने सभी राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों को भी अलर्ट पर रहने को कहा है.

महाराष्ट्र में ‘भारत बंद रेल रोको’ आंदोलन
सरकार के कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने मंगलवार को भारत बंद का आह्वान किया है, इसी के समर्थन में एक किसान संस्था स्वाभिमानी शेतकारी संगठन ने ‘भारत बंद रेल रोको’ आंदोलन किया और महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले के मलकापुर में एक ट्रेन को रोक दिया. इसके बाद पुलिस ने मोर्चा संभालते हुए प्रदर्शनकारियों को रेलवे ट्रेक से हटा दिया और प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया.

ओडिशा में भी रोकी गई ट्रेन
वहीं ओडिशा में किसान यूनियन, वाम दलों और ट्रेड यूनियन ने भी ट्रेन रोकी. प्रदर्शकारियों ने भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों को रोका.

उस्मानिया विश्वविद्यालय में स्थगित हुई परिक्षाएं
उस्मानिया विश्वविद्यालय ने अपनी आठ दिसंबर को होने वाली परिक्षाओं को स्थगित कर दिया है. लेकिन 9 दिसंबर से सभी परिक्षाएं अनुसूची के साथ आयोजित की जाएंगी.

आंध्र प्रदेश में भी प्रदर्शन
आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में भी कृषि कानूनों के विरोध में किसान यूनियनों ने प्रदर्शन किया और भारत बंद का समर्थन किया.

कृषि कानून के विरोध में किसानों के समर्थन में अनशन पर बैठे अन्ना हजारे, जानें हजारे ने अपने रिकॉर्डेड संदेश में क्या कहा-

Previous article

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा- कृषि कानूनों को लेकर विपक्षी दल किसानों को कर रहे भ्रमित, कांग्रेस पर जमकर साधा निशाना

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.