बर्थडे स्पेशल-आदित्य चौपड़ा के वो राज जो किसी को नहीं पता

बर्थडे स्पेशल-आदित्य चौपड़ा के वो राज जो किसी को नहीं पता

नई दिल्ली। बॉलीवुड को ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्म देने वाले आदित्य चोपड़ा किसी परिचय के मोहताज नहीं है। आदिय चौपड़ा अपना 47वां बर्थडे मना रहें हैं। फिल्ममेकर यश चोपड़ा के बेटे आदित्य चोपड़ा आज किसी परिचय को मोहताज नहीं हैं। आदित्य को ज्यादा बात करना पसंद नहीं। न ही वे सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं। वे पर्सनल लाइफ और प्रोफेशनल लाइफ को अलग रखते हैं।

दिलचस्प स्टोरी

यूं तो लाइमलाइट में आदित्य चौपडा नहीं रहें हैं। लेकिन इसका ये कतई मतलब नहीं हैं कि असल जिंदगी में वे पूरी तरह नीरस। आदित्य की निजी जिंदगी काफी मजेदार रही है। बता दे कि पहली शादी टूटने के बाद आदित्य ने रानी को कैसे इंप्रेस किया था ये स्टोरी काफी दिलचस्प है। दरअसल, रानी मुखर्जी ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनकी आदित्य से मुलाकात कैसे हुई।

‘मुझसे दोस्ती करोगे’

रानी ने कहा था, ‘मेरी फिल्में फ्लॉप होती जा रही थीं, लेकिन उसी दौरान किस्मत से ‘मुझसे दोस्ती करोगे’ऑफर हुई। इसी फिल्म के सिलसिले में मैं पहली बार आदित्य से मिली। उन्होंने मुझेस कहा, तुम्हारी फिल्में चल नहीं रही हैं। और लोगों ने भी उन्हें मुझे अपनी फिल्मों में लेने से मना किया। लेकिन आदित्य को मेरे टैलेंट पर भरोसा था। फिल्म के उस किरदार के लिए मैं उनको परफेक्ट लगी और उन्होंने मुझे साइन कर लिया। उसके बाद हम एक दूसरे को पसंद करने लगे।

6 साल बाद दोनों के बीच अनबन

अफेयर के समय ये भी खबर आई थी कि आदित्य दो साल तक रानी के जुहू बंगले में लिव इन में रहते थे। मीडिया में रानी को आदित्य का घर टूटने की एक बड़ी वजह माना जाने लगा था। वहीं आदित्य और रानी ने कभी इस बारे में कुछ नहीं बोला। बता दे कि आदित्य की पहली पत्नि की अगर बात करें तो पहली पत्नि पायल मल्होत्रा थीं। दोनों की कोई औलाद नहीं थी। कहा जाता है कि शादी के बाद आदित्य और पायल 6 महीने तक हनीमून पर रहे थे।

माता पिता का छोड़ा घर

आदित्य चौपड़ा ने जब अपनी पहली पत्नि पायल को तलाक दिया तो आदित्य के इस फैसले से उनके पिता यश चौपड़ा कपी नाराज थे और उन्होंने अपने बेटे की जगह अपनी बहू पायल का साथ देने का फैसला किया और अपने बेटे को इस बारें में काफी समझाया। यश चोपड़ा के दबाव डालने पर आदित्य ने अपने माता-पिता का घर छोड़ दिया और होटल में रहने लगे।

18 साल की उम्र में बने असिस्टेंट डायरेक्टर

आदित्य चोपड़ा ने अपने फिल्म मेकिंग करियर की शुरुआत 18 साल की उम्र में असिस्टेंट डायरेक्टर के तौर पर की थी। उन्होंने अपने पिता यश चोपड़ा को चांदनी, लम्हे और डर में असिस्ट किया।  23 साल की उम्र में उन्होंने पहली फिल्म का निर्देशन किया था। ये फिल्म थी दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे। साल 1995 में आई इस फिल्म की स्क्रिप्ट पर आदित्य चोपड़ा ने 1990 से ही काम करना शुरू कर दिया था। फिल्म ‘दिल तो पागल है’ के डायलॉग भी आदित्य चोपड़ा ने ही लिखे थे।

आठ साल बाद किया कमबैक

डायरेक्शन में वापसी-आदित्य चोपड़ा ने साल 2016 में फिल्म बेफिक्रे से बतौर डायरेक्टर आठ साल बाद कमबैक किया था। हालांकि 70 करोड़ के बजट में बनी ये फिल्म चली नहीं। फिल्म में रणवीर सिंह और वाणी कपूर लीड रोल में थे। प्रोड्यूसर के तौर आदित्य चोपड़ा की दो फिल्में शमशेरा और ठग्स आॅफ हिंदोस्तान जल्द ही आने वाली हैं।