January 24, 2022 4:10 pm
featured भारत खबर विशेष

नहीं शांत हुआ शुक्र ग्रह आग की लपटों से अब भी जल रहा. जानिए क्यों?

venus 2 नहीं शांत हुआ शुक्र ग्रह आग की लपटों से अब भी जल रहा. जानिए क्यों?

शुक्र ग्रह को वीनस नाम से भी जाना जाता है। शुक्र ग्रह हमेशा से ही वैज्ञानिकों और ज्योतिषियों के लिए अहम ग्रह रहा है। लेकिन शुक्र ग्रह को लेकर जिस तरह की एक और नई जानकारी सामने आयी है। उसने सबको चौंका दिया है। वैज्ञानिकों ने रिसर्च में पाया है कि, शुक्र ग्रह में अब भी आग जल रही है। इस ग्रह को लेकर कई बार दावे किय़े गये थे कि, इसके ज्वालामुखी शांत हो गये हैं। लेकिन ऐसा नहीं है।

venus 1 नहीं शांत हुआ शुक्र ग्रह आग की लपटों से अब भी जल रहा. जानिए क्यों?
एक ताजा स्टडी में इससे उलट कम से कम 37 ऐसे ज्वालामुखी पाए गए हैं जो ऐक्टिव थे। इन्हें कोरोने नाम दिया गया है। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड और ज्यूरिक के इंस्टिट्यूट ऑफ जियोफिजिक्स के रिसर्चर्स ने 3डी मॉडल्स के जरिए यह पता लगाया है कि ये कोरोने 50 करोड़ साल पहले की ऐक्टिविटी नहीं बल्कि हाल के वक्त में बने हैं।मैरीलैंड के प्रफेसर लॉरेन्ट मॉन्टेसी ने बताया कि ऐसा पहली बार हुआ है कि वीनस पर खास स्ट्रक्चर को पहचाना जा सका है और पता लगा है कि ये कोई पुरातन ज्वालामुखी नहीं, हाल में सक्रिय है।

मॉन्टेसी ने कहा है कि इसके साथ इनके बनने की प्रक्रिया को पहचाना जा सकता है और सिर्फ ऐक्टिव ज्वालामुखी के फीचर्स को समझा जा सकता है।वीनस पर ऐसे 37 ज्वालामुखी आसपास ही मिले हैं। माना जा रहा है कि ग्रह के कुछ हिस्से ज्यादा ऐक्टिव हैं और इससे उसकी टेक्टॉनिक ऐक्टिविटी को समझा जा सकता है। यह इसलिए खास है क्योंकि भविष्य में अगर शुक्र पर रोवर भेजा जाता है, तो उसे कहां भेजना है, इसे तय करने में मदद मिलेगी।

https://www.bharatkhabar.com/open-fortunes-of-laborers/

आपको बता दें, नासा 2035 तक पहली बार इंसानों को मंगल मिशन पर भेजने पर काम कर रही है। और इसे लेकर वैज्ञानिकों की राय है कि मंगल पर जाने से पहले वीनस पर जाना चाहिए। क्योंकि शुक्र ग्रह से मंगल ग्रह काफई नजदीक पड़ता है। इससे ईधन की बचत भई होगी और कई अहम जानकरियां भी खुलकर सामने आएंगी। शुक्र ग्रह में धधक रहे ज्वालामुखी को जानने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं। ताकि इनके रहस्यों का जाना जा सके।

Related posts

उत्तराखंड: सीएम धामी के निर्देश पर हटी कांवड़ यात्रा से रोक, जानें क्यों लिया गया ये फैसला

pratiyush chaubey

खत्म हुआ टूटते तारे का सफर, अब 6800 हजार साल बाद देख सकेंगे ये खूबसूरत नजारा..

Rozy Ali

जाने बच्चों के लिए कितनी जरूरी है कोरोना वैक्सीन, लगवाए या नहीं

Rani Naqvi