September 26, 2022 4:05 pm
Breaking News यूपी

गोरखपुर का एक बड़ा हिस्सा बाढ़ की चपेट में, कई गांव बन गए हैं टापू

गोरखपुर का एक बड़ा हिस्सा बाढ़ की चपेट में, कई गांव बन गए हैं टापू

गोरखपुर: पूर्वांचल के कई क्षेत्र प्रदेश में बाढ़ की चपेट को झेल रहे हैं। गोरखपुर में भी ऐसा ही कुछ नजारा देखने को मिला है, कुल 113 गांव ऐसे हैं, जहां अभी भी जनजीवन काफी अस्तव्यस्त है। उसी को ध्यान में रखते हुए गोरखपुर शासन की तरफ से 148 नाव क्षेत्र में लगाई गई हैं।

यहां रोहिणी नदी का पानी धीरे-धीरे अब खतरे के निशान से नीचे आ रहा है। वहीं राप्ती नदी के जलस्तर में भी कुछ गिरावट देखने को मिल रही है, यह खबर प्रशासन के लिए भी राहत वाली है लेकिन अभी भी किसी भी तरह की ढीली नहीं बरती जा रही है। बीते दिनों जिला अधिकारी के द्वारा बांसगांव क्षेत्र में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया गया। इस दौरान सभी सुरक्षा व्यवस्थाओं से जुड़े निरीक्षण किए गए। स्थानीय प्रशासन को मौके पर सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध करवाने का निर्देश जिलाधिकारी के द्वारा दिया गया, साथ ही पशुओं के लिए भी चारा और चिकित्सा से जुड़े सभी प्रबंधक करने के बाद उनकी तरफ से कही हुई।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों का आवागमन और उन तक पहुंचने वाली राहत सामग्री आसानी से मिल सके, इसके लिए नाव चलाई जा रही है। कुल 148 नावों का प्रबंध किया गया है, जिनके माध्यम से इस सुविधा को आसान बनाया जा रहा है। इन सबके अतिरिक्त प्रशासन के लिए एक बड़ी चुनौती जानवरों का चारा उपलब्ध करवाने की है, बाढ़ प्रभावित इलाके में चारा मिलना एक बड़ी समस्या है।

सहजनवा तहसील अभी भी बाढ़ का भारी संकट झेल रही है, यहां की राप्ती और आमी नदी में पानी तेजी से बढ़ा है। इसके कारण कई गांव इसकी चपेट में आ गए, लोगों के घरों में पानी घुस गया और सभी ऊंचे स्थान की तरफ भागने लगे। गांव छोटे-छोटे टापू में तब्दील हो गए हैं।

Related posts

आजादी के बाद अभी तक जातीय आधार पर कोई योजना नहीं बनी : साक्षी सिंह

Shailendra Singh

शादी का झांसा देकर लड़की को किया गर्भवती

piyush shukla

भाजपा में टिकट बंटवारे पर थम नहीं रहा कार्यकर्ताआें का आक्रोश

kumari ashu