featured भारत खबर विशेष

सामान्य कद वालों की दुनिया में अपनी जगह बनाने की कोशिश कर रहा 9 बौनों का परिवार

The Incredible Dwarf Family of India सामान्य कद वालों की दुनिया में अपनी जगह बनाने की कोशिश कर रहा 9 बौनों का परिवार

भारत एक ऐसा देश है जहां हर तरह के लोग रहते हैं। फिर चाहे वह काले हो मोटे हो पतले हो या लंबे हो या फिर बौने हो। जिसके चलते उनकों अपने हिसाब से यातनाओं का भी सामना करना पड़ता है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है तेलंगाना से जहां एक 9 बौने लोगों का परिवार खुद को सामान्य लोगों में शामिल करने की कोशिश कर रहा है। लेकिन आम लोग उनको उनके कद की वजह से काफी कुछ सुनाते हैं। हालांकि उनका कहना है कि उनको ये सब भगवान की ओर से मिला है जिसको वह दिल से स्वीकार करते हैं।

1600x960 194029 south सामान्य कद वालों की दुनिया में अपनी जगह बनाने की कोशिश कर रहा 9 बौनों का परिवार

बता दें कि बौने परिवार के मुखिया राम राज चौहान का कहना है कि हमें हमारे कद की वजह से चिढ़ाया जाता है। लोग गंदी-गंदी गालियां देते हैं। ऐसा नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा हमें कोई कुछ भी कहे बौना कहे गाठा कहे, बस हमें गालियां न दें। ये चुभता है। उन्होंने अपने जीवन के बारे बाताते हुए कहा कि मुझे इस बात का दुख है कि मेरी पढ़ाई छूट गई। उन्होंने बताया कि जब में पढ़ने के लिए एक क्लास से दूसरी क्लास में जा रहा था तो बच्चों ने मुझे धक्का दे दिया। मुझे चोट लग गई। जिसकी वजह से मेरी पढ़ाई बीच में ही छूट गई।

3CA8097300000578 0 image a 24 1485773186336 सामान्य कद वालों की दुनिया में अपनी जगह बनाने की कोशिश कर रहा 9 बौनों का परिवार

आगे उन्होंने कहा कि मैं तो नहीं पढ़ा लेकिन मैं अपने बच्चों को पढ़ाना चाहता हूं। एक तो कद की वजह से उन्हें समाज की यातनाएं झेलनी पड़ती है। ऊपर से अब वह लॉकडाउन की वजह से रोजगार से भी हाथ धो बैठे हैं। परिवार की बेटी का कहना है कि कई जगह जॉब के लिए एप्लाई किया। लेकिन कद छोटा होने की वजह से कहीं कुछ हो नहीं पाया। अब ये परिवार सिर्फ सरकारी पेंशन पर ही निर्भर है।

Related posts

नशा तस्कर के खिलाफ बड़ी कार्रवाई, 12 किलो से अधिक गांजा के साथ युवक गिरफ्तार

Rahul

हफ्ते भर में तिहाड़ जेल शिफ्ट किए जाएंगे बिहार के बाहुबली नेता शहाबुद्दीन

Rahul srivastava

नोएडाः फर्जी आधार कार्ड बनाने वाले 2 शातिर बदमाश गिरफ्तार, विधायक के नाम पर करते थे धांधली

Shailendra Singh