देश featured भारत खबर विशेष मध्यप्रदेश राज्य

98 प्रतिशत पेयजल भूजल स्त्रोत पर आधारित, भूजल स्तर में सुधार की जरूरत

water 98 प्रतिशत पेयजल भूजल स्त्रोत पर आधारित, भूजल स्तर में सुधार की जरूरत

भोपाल। राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों की लगभग 98 प्रतिशत पेयजल व्यवस्था भूजल स्रोतों पर आधारित है। पिछले कई वर्षों से भूजल स्तर में लगातार गिरावट को देखते हुए, राज्य सरकार ने ग्रामीण पेयजल समस्या के स्थायी समाधान के लिए पिछले एक वर्ष में सतही जल स्रोतों पर आधारित समूह जल आपूर्ति योजनाओं को प्राथमिकता दी है। “हर घर नल से जल” योजना को राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में लागू किया गया है। अब, ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को नदियों, तालाबों, कुओं और बाओली से पानी लाने की ज़रूरत नहीं है।

नई पेयजल नीति में छोटे और दूरदराज के गांवों को प्राथमिकता दी गई है। इन गांवों में नल-जल योजनाओं के कार्यान्वयन के लिए नीति को सरल बनाया गया है। आवासों में नए हैंडपंप लगाए जाएंगे, जहां गर्मी के मौसम में प्रति व्यक्ति प्रति दिन 55 लीटर की दर से पीने का पानी उपलब्ध नहीं है। नई पेयजल नीति में 300 मीटर के दायरे में कम से कम एक सरकारी पेयजल स्रोत के लिए प्रावधान है, किसी भी बस्ती के 500 मीटर के भीतर पीने का पानी का स्रोत प्रदान किया गया था, प्राथमिकता अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति बहुल गांवों को स्थापना के लिए दी जा रही है हाथ पंप। अब, गर्मी के मौसम में नल-जल योजना के क्रियान्वयन से पेयजल संकट से जूझ रहे बड़े गाँवों के साथ-साथ छोटे गाँव भी लाभान्वित हो सकेंगे।

राज्य सरकार ने विशेषज्ञों के मार्गदर्शन में “राइट-टू-वाटर” अधिनियम का एक मसौदा तैयार किया है। इस अधिनियम को विधान सभा के आगामी बजट सत्र में पारित और कार्यान्वित किया जाएगा। इस अधिनियम के लागू होने के बाद, मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य बन जाएगा, जहां लोगों को पानी का कानूनी अधिकार मिलेगा। इस अधिनियम को लागू करने के लिए बजट में 1,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। यह अधिनियम एक सरकारी कानून नहीं है, बल्कि “एक सार्वजनिक कानून” है। जनभागीदारी सुनिश्चित करके जल संरक्षण और संवर्धन कार्यों को एक बड़े अभियान के रूप में लागू किया जाएगा। इस कानून के द्वारा, राज्य के सभी जल स्रोतों, नदियों, तालाबों और पारंपरिक जल स्रोतों को संरक्षित और स्थिर किया जाएगा।

पानी का कानूनी अधिकार राज्य सरकार की आवश्यकता के अनुसार हर परिवार को पानी उपलब्ध कराने के संकल्प का परिणाम है। ग्रामीण क्षेत्रों में हर घर में नल से पानी की आपूर्ति करने के लिए 68,000 करोड़ रुपये की विस्तृत कार्य-योजना बनाई गई है। अब तक 19 समूह जल योजनाओं को पूरा करके 802 गांवों की 11.5 करोड़ से अधिक आबादी को घरेलू नल कनेक्शन के माध्यम से पानी की आपूर्ति शुरू की गई है। 6,672 करोड़ रुपये की लागत वाली 39 योजनाओं पर काम चल रहा है, जो अगले दो वर्षों में पूरा हो जाएगा। इससे 6,091 गांवों की लगभग 64 लाख आबादी को पीने का पानी मिलेगा। राज्य के 14,510 गाँवों की एक करोड़ आबादी को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए 22,484 करोड़ रुपये की 45 सामूहिक जलापूर्ति योजनाओं की डीपीआर तैयार की गई है।

Related posts

भूमि अधिग्रहण का मामला: मेरठ के दो पूर्व जिलाधिकारी पर जांच को तैयार योगी सरकार

Trinath Mishra

Exclusive: आपकी लापरवाही “कोरोना वारियर्स” का बढ़ा रही तनाव

sushil kumar

रेलवे का बड़ा एलान, यात्रियों को अब नहीं मिलेगी ये फ्री सेवा

mohini kushwaha