September 26, 2022 7:49 am
featured Sputnik News - Hindi-Russia दुनिया भारत खबर विशेष

56 साल पहले माइक्रोस्कोप में देखा गया था कोरोना वायरस, इस महिला वैज्ञानिक ने की थी खोज

almida 56 साल पहले माइक्रोस्कोप में देखा गया था कोरोना वायरस, इस महिला वैज्ञानिक ने की थी खोज

यू.एस ब्यूरो। कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में अब तक 1.65 लाख से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। 24 लाख से अधिक लोग बीमार हैं। कुछ वैज्ञानिक कहते हैं कि यह चमगादड़ों से इंसानों में आया। जबकि, कुछ लोग कह रहे हैं कि इसे प्रयोगशाला में बनाया गया है। लेकिन क्या आपको पता है कि इंसानों में सबसे पहले कोरोना वायरस की खोज किसने की थी? कैसे पता चला था इस वायरस का? आइए जानते हैं उस वैज्ञानिक की कहानी, जिसने पहली बार कोरोना वायरस की खोज की थी।

बात है 1964 की यानी आज से 56 साल पहले की एक महिला वैज्ञानिक अपने इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोस्कोप में देख रही थी। तभी उन्हें एक वायरस दिखा जो आकार में गोल था और उसके चारों तरफ कांटे निकले हुए थे। जैसे सूर्य का कोरोना। इसके बाद इस वायरस का नाम रखा गया कोरोना वायरस इसे खोजने वाली महिला का नाम है डॉ. जून अल्मीडा।

जून अल्मीडा 56 साल पहले माइक्रोस्कोप में देखा गया था कोरोना वायरस, इस महिला वैज्ञानिक ने की थी खोज

डॉ. जून अल्मीडा ने जिस समय कोरोना वायरस की खोज की थी, तब उनकी उम्र 34 साल की थी। 1930 में स्कॉटलैंड के ग्लासगो शहर के उत्तर-पूर्व में स्थित एक बस्ती में रहने वाले बेहद साधारण परिवार में जून का जन्म हुआ। अल्मीडा के पिता बस ड्राइवर थे। घर आर्थिक स्थिति ठीक न होने की वजह से जून अल्मीडा को 16 साल की उम्र में स्कूल छोड़ना पड़ा था। 16 साल की उम्र में ही उन्हें ग्लासगो रॉयल इन्फर्मरी में लैब टेक्नीशियन की नौकरी मिल गई। धीरे-धीरे काम में मन लगने लगा। फिर इसी को अपना करियर बना लिया। कुछ महीनों के बाद ज्यादा पैसे कमाने के लिए वे लंदन आईं और सेंट बार्थोलोमियूज हॉस्पिटल में बतौर लैब टेक्नीशियन काम करने लगीं।

https://www.bharatkhabar.com/amidst-corona-havoc-trump-threatened-china-saying-if-china-is-responsible-for-spreading-corona-the-consequences-will-be-suffered/

वर्ष 1954 में उन्होंने वेनेजुएला के कलाकार एनरीक अल्मीडा से शादी कर ली। इसके बाद दोनों कनाडा चले गए। इसके बाद टोरंटो शहर के ओंटारियो कैंसर इंस्टीट्यूट में जून अल्मीडा को लैब टेक्नीशियन से ऊपर का पद मिला। उन्हें इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी टेक्नीशियन बनाया गया। ब्रिटेन में उनके काम की अहमियत को समझा गया। 1964 में लंदन के सेंट थॉमस मेडिकल स्कूल ने उन्हें नौकरी का ऑफर दिया।

लंदन आने के बाद डॉ. जून अल्मीडा ने डॉ. डेविड टायरेल के साथ रिसर्च करना शुरू किया। उन दिनों यूके के विल्टशायर इलाके के सेलिस्बरी क्षेत्र में डॉ. टायरेल और उनकी टीम सामान्य सर्दी-जुकाम पर शोध ककर रही थी। डॉ. टायरेल ने बी-814 नाम के फ्लू जैसे वायरस के सैंपल सर्दी-जुकाम से पीड़ित लोगों से जमा किए थे। लेकिन प्रयोगशाला में उसे कल्टीवेट करने में काफी दिक्कत आ रही थी।

परेशान डॉ. टायरेल ने ये सैंपल जांचने के लिए जून अल्मीडा के पास भेजे। अल्मीडा ने वायरस की इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोस्कोप से तस्वीर निकाली। इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी बताया कि हमें दो एक जैसे वायरस मिले हैं। पहला मुर्गे के ब्रोकांइटिस में और दूसरा चूहे के लिवर में उन्होंने एक शोधपत्र भी लिखा, लेकिन वह रिजेक्ट हो गया। अन्य वैज्ञानिकों ने कहा कि तस्वीरे बेहद धुंधली हैं।

Related posts

19 मार्च को UP को मिलेगा CM, हाईटेक तरीके से भेजा जाएगा निमंत्रण

shipra saxena

राहुल गांधी के लखनऊ पहुँचते ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं का हंगामा

Rani Naqvi

जम्मू-कश्मीर विधानसभा में उठा आतंकियों के सफाए का मुद्दा, विपक्ष ने किया विरोध

Breaking News