September 18, 2021 6:17 am
featured यूपी

यूपी: आखिर ये कैदी जेल से बाहर क्यों नहीं जाना चाहते, जानिए दिलचस्प कहानी

यूपी: आखिर ये कैदी जेल से बाहर क्यों नहीं जाना चाहते, जानिए दिलचस्प कहानी

गाजियाबाद: जेल में बंद कैदी बाहर निकलने के लिए कई तरह की फरियाद लगाते है। लेकिन गाजियाबाद के डासना जिला कारागार के कैदियों ने प्रशासन से एक ऐसी फरियाद की है जिसे सुनकर हर कोई चौंक गया। जेल में बंद चार कैदियों ने अधिकारियों से खुद को रिहा ना करने की गुहार लगाई है।

जेल में बेहतर सुविधा

कोरोना संक्रमण के चलते जेल प्रशासन कैदियों को 60 दिन की पैरोल दे रहा है। इन कैदियों को बाहर की स्वास्थ्य सेवाओं से ज्यादा भरोसा जेल प्रशासन की सेवाओं पर है। इसी के चलते जेल के चार कैदियों ने 60 दिन की पैरोल लेने से इंकार कर दिया है। जेल अधीक्षक आलोक सिंह ने भी इन कैदियों की बात मान ली है और जेल में रहने की इजाजत देते हुए जानकारी मुख्यालय को दे दी है।

जेल अधीक्षक ने बताया यह चारों कैदी सात साल की सजा काट रहे है। चारों ने अपनी सजा लगभग 80 से 85 प्रतिशत पूरी कर ली है।

जेल में संक्रमण का खतरा कम

कैदियों का कहना है कि जेल में समय पर सेनेटाइजेशन होता है और दवाएं भी मिलती है। जेल में रहकर दिनचर्या भी सही हो गई है। इतनी सुविधा होने के बाद भी हम कोरोना संक्रमित हो जाते है तो भी यहां बेहतर इलाज मिलेगा। हमें यहां हर दिन योगा कराया जाता है डॉक्टर के परामर्श पर भाप दिलाई जाती है। कैदियों की इस फरियाद पर डासना जेल के अधिक्षक काफी  खुश है।

60 दिन की मिल रही है पैरोल

गाजियाबाद के डासना जेल में 1708 कैदियों के रहने की व्यवस्था है। 20-22 दिन पहले यहां 5400 कैदी जेल में बंद थे। कोरोना के संक्रमण के चलते बंदियों को 60 दिन की अंतिरम जमानत और पैरोल दी जा रही है। लेकिन चार कैदियों ने पैरोल पर जाने के बजाय जेल में रहना ही बेहतर समझा।

Related posts

ड्रग्स ने बिगाड़ा था संजय दत्त का हाल, भीख मांगने के लिए हो गए थे मजबूर

mohini kushwaha

28 दिन बाद अस्पताल से डिस्चार्ज हुए पहलाज निहलानी, रेस्टोरेंट पर करेंगे कानूनी कार्रवाई

Shailendra Singh

इंदौर पूरे योग्य आबादी को टीकाकरण करने वाला पहला शहर बना, जानें पूरी खबर

nitin gupta