featured यूपी

वाराणसीः BHU में ब्लैक फंगस के 3 मरीजों की मौत, जानें कैसे करें बचाव?

वाराणसीः BHU में ब्लैक फंगस के 3 मरीजों की मौत, जानें कैसे करें बचाव?

वाराणसीः देश में कोरोना का खतरा अभी खत्म नहीं हुआ कि इस बीच ब्लैंक फंगस का संक्रमण लोगों के बीच अपने पांव पसार रहा है। ब्लैक फंगस का प्रकोप तेजी से फैल रहा है। ताजा मामला वाराणसी के बीएचयू अस्पताल से सामने आया है, जहां पिछले दो दिनों में ब्लकै फंगस का कोई नया मरीज तो नहीं मिला है लेकिन तीन मरीजों की मौत हो गई है।

वहीं, पूरे प्रदेश में अब तक ब्लैक फंगस के 219 मरीज सामने आ चुके हैं। जिनमें से 62 मरीजों की मौत हो चुकी है।

136 मरीजों का इलाज जारी

बीएचयू के सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज किया जा रहा है। पिछले दो दिनों में कोई नए मरीजों की संख्या बढ़ोत्तरी तो नहीं हुई है, लेकिन यहां पहले से भर्ती तीन मरीजों की मौत ने अस्पताल में हडकंप मचा दिया है। वहीं, अभी तक 21 मरीज ठीक होकर घर जा चुके है, जबकि 136 मरीजों का इलाज चल रहा है।

तीन मरीजों की मौत पर जानकारी देते हुए बीएचयू हॉस्पिटल के एमएस ने बताया कि जिन मरीजों की अभी तक मौत हुई है उनमें ब्लैक फंगस साथ शुगर जैसी अन्य बीमारियां पहले से थी। म्यूकॉरमायकोसिस यानी ब्लैक फंगस का सबसे ज्यादा असर हमारी आंखों पर होता है।

कैसे फैलता है ब्लैक फंगस?

विज्ञान भाषा में राइनो ऑर्बिटल सेरीब्रल म्यूकॉरमायकोसिस (ROCM) कहते हैं। जानकारी के मुताबिक स्टेरॉयड के अधिक सेवन और अन्य दवाओं के चलते ब्लैक फंगस, वाइट फंगस या फिर योलो फंगस जैसी बीमारियां पैदा होती हैं। लेकिन, सबसे अच्छी बात ये है कि ये कोरोना की तरह नहीं है। ब्लैक फंगस एक इंसान से दूसरे इंसान में संक्रमण के जरिए नहीं फैलता है।

Related posts

खाड़ी में बढ़ते तनाव से 80 लाख भारतीयों पर मंडराया बेरोजगारी का संकट

Pradeep sharma

 अफगानिस्तान में शांति के लिए हो रहे प्रयासों को तगड़ा झटका, राजनीतिक रैली के दौरान गोलीबारी में 27 लोगों की मौत

Rani Naqvi

थमने का नाम नहीं ले रहा प्रदूषण, इन शहरों के हालात सबसे ज्यादा खराब

Rani Naqvi