support farmers किसान आंदोलन का 28वां दिन, आज सरकार को जवाब पत्र सौपेंगे किसान

किसानों के आंदोलन का आज 28वां दिन है. 27 दिनों से किसान दिल्ली की सीमाओं पर कृषि कानूनों के खिलाफ डटे हुए हैं. 23 दिसंबर यानि किसान दिवस, आज किसान दिवस है और देश का किसान सड़क पर है. किसान दिवस के मौके पर किसान अपने उन किसान भाईयों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे जिन्होंने आंदोलन के दौरान अपनी जान गवांई.

अगर आंदोलन की बात करें तो किसान आज सरकार को उनके पत्र का जवाब देनी की तैयारी में हैं. पंजाब की किसान जत्थेबंदियों की मंगलवार को हुई मैराथन मंथन बैठक में कई बिंदु तय किये. कई दौरा की बैठकों के बाद सरकार के लिये ये जवाबी पत्र तैयार किया गया है. जवाबी पत्र में सवालों के साथ फिर सरकार से कई सवाल पूछे जाएंगे. इस पत्र का खाका तैयार करने के लिये किसानों ने बीते दिन कई घंटों तक लंबी बैठकें की हैं. यही नहीं इस पर संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े देश के अन्य किसान संगठनों से बुधवार को निर्णायक बैठक होगी. सुबह अंतिम मुहर लगते ही सरकार को जवाबी पत्र सौंप दिया जाएगा.

किसानों की आगे की रणनीति
किसान पिछले 27 दिनों से आंदोलन पर बैठे हुए हैं. इसी के साथ ही अलग-अलग तरीके से किसान सरकार पर दबाव बनाने के लिये अपना विरोध जता रहे हैं. आज किसान दिवस पर श्रद्घांजलि कार्यक्रम होगा. फिर 24 दिसंबर को किसान एकता मोर्चा 10 हजार लोगों को जुड़ने के लक्ष्य के साथ वेबिनार करेंगी. उसके बाद 26 तारीख को फिर श्रद्घांजलि कार्यक्रम का आयोजन है. इस बीच क्रमिक भूख हड़ताल का सिलसिला जारी रखने का फैसला किया गया। आयकर छापे के बाद पंजाब के आढ़तियों ने शनिवार तक बंद की घोषणा की है.

वहीं केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने भी उम्मीद जताई है कि आंदोलनकारी संगठनों से जल्द बातचीत हो सकती है. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार अभी भी हर बिंदु पर संशोधन के लिये और बातचीत के लिये तैयार है. वहीं केरल में कृषि कानूनों के खिलाफ विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने के लिये राज्यपाल ने मंजूरी देने से इनकार कर दिया है. केरल की सरकार किसान दिवस पर विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की बात कही थी, लेकिन राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने इससे इनकार कर दिया.

पुलिस ने किसानों को दिल्ली जाने से रोका, हिसंक हुए किसानों ने कर दिया एसएसपी की गाड़ी पर हमला

Previous article

यूपी- इफको में अमोनिया गैस का रिसाव, दो अफसरों की मौत

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.