मातम में बदली शादी की खुशियां, सिलेंडर फटने से 18 लोगों की मौत

मातम में बदली शादी की खुशियां, सिलेंडर फटने से 18 लोगों की मौत
अजमेर। राजस्थान में एक लापरवाही के चलते शादी की खुशियों का माहौल देखते ही देखते गम में बदल गया। दरअसल शादी समारोह के दौरान गैस सिलेंडर फटने से दुल्लहें की मां समेत 18 लोगों की मौत होने से चहूं और मातम पसर गया। हलवाई के छोटे से लालाच ने शादी समारोह को शमशान बना कर रख दिया हर तरफ सिर्फ लाश और मलबा ही नजर आ रहा था। अजमेर के ब्यावर में शादी की तैयारियों के बीच दो से अधिक सिलेंडर फटने से विवाह स्थल का भवन भर-भराकर गिर गया। हादसे में तीन मासूमों सहित 18 लोग काल के ग्रास में समा गए और दो दर्जन से ज्यादा लोग इस हादसे में घायल हो गए। ब्यावर स्थित कुमावत समाज भवन में एक शादी समारोह के दौरान शुक्रवार देर शाम दो से अधिक सिलेंडर फट गए।
धमाका इतना जबरदस्त था कि दो मंजिला विवाह स्थल ढह गया, जिसमें दबने से चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि 14 शवों को राहत बचाव कार्य के दौरान पिछले 36 घंटे से भी ज्यादा समय से चल रहे आॅपरेशन के बाद निकाला गया। आज ही करीब 9 लाशों को एक एक कर मलबे के ढेर से निकाला गया।  मौके पर राहत व बचाव कार्य अभी भी जारी है और कुछ लोगों के दबे होने की आशंका के चलते उन्हें बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है। इस हादसे को लेकर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपनी संवेदना जताई है और मृतकों के आश्रितों को मुआवजा स्वरूप 2-2 लाख रुपए देने का ऐलान कर दिया है।
शादी से पहले यहां हेमंत पटलेचा के मायरे की रस्म का कार्यक्रम हो रहा था। इस दौरान खाने की भी तैयारी चल रही थी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि खाने की तैयारी कर रहा एक हलवाई रिफलिंग के जरिए एक सिलेंडर की गैस दूसरे में डाल रहा था। हलवाई का गैस बचाने का ये लालच सभी पर भारी पड़ गया। इसी दौरान सिलेंडर ने आग पकड़ ली और ब्लास्ट हो गया। मौके पर मौजूद लोगों का कहना है कि दो से अधिक सिलेंडर ब्लास्ट हुए हैं। जिसके कारण पूरा भवन धाराशायी हो गया। हादसा इतना भीषण था कि पिछले 36 घंटे से भी ज्यादा समय से मलबा हटाने और फंसे हुए लोगों को ही निकालने का काम चल रहा है।