September 25, 2022 8:17 pm
Breaking News featured देश भारत खबर विशेष

13वें राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणब मुखर्जी का यूं चले जाना

shraddhanjali 13वें राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणब मुखर्जी का यूं चले जाना

देश में शोक की लहर, राष्ट्रपति प्रधानमंत्री सहित तमाम नेताओं ने नम आंखों से दादा प्रणव मुखर्जी के कार्यकाल को याद कर दी भावभीनी श्रद्धांजलि

संवाददाता || भारत खबर

देश के तेजतर्रार और भारत के 13वें राष्ट्रपति भारत रत्न प्रणव मुखर्जी (Pranav Mukharji) का देहांत हो गया। उनके देहांत पर पूरा देश शोक में डूब गया है। प्रणव मुखर्जी एक ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने अपने राष्ट्रपति के कार्यकाल के दौरान भारत को नई दिशाओं में मोड़ने का कार्य किया, भारत को नई ऊंचाइ पर ले जाने का कार्य किया है। मुखर्जी 2012 से 2017 के बीच 13वें राष्ट्रपति थे।

प्रणब मुखर्जी (Pranav Mukharji) के निधन पर भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत भारत के टॉप नेताओं ने शोक श्रद्धांजलि अर्पित की है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट किया, ‘पूर्व राष्ट्रपति, श्री प्रणब मुखर्जी के स्वर्गवास के बारे में सुनकर हृदय को आघात पहुंचा। उनका देहावसान एक युग की समाप्ति है। श्री प्रणब मुखर्जी के परिवार, मित्र-जनों और सभी देशवासियों के प्रति मैं गहन शोक-संवेदना व्यक्त करता हूँ।’ 

उन्होंने आगे लिखा, ‘भारत के प्रथम नागरिक के रूप में, उन्होंने लोगों के साथ जुड़ने और राष्ट्रपति भवन से लोगों की निकटता बढ़ाने के सजग प्रयास किए। उन्होंने राष्ट्रपति भवन के द्वार जनता के लिए खोल दिए। राष्ट्रपति के लिए ‘महामहिम’ शब्द का प्रचलन समाप्त करने का उनका निर्णय ऐतिहासिक है।’

इससे पहले, प्रणब मुखर्जी का स्वास्थ्य और खराब हो गया था। अस्पताल ने बताया था कि उनके स्वास्थ्य में गिरावट दर्ज की गई क्योंकि उन्हें फेफड़े में संक्रमण की वजह से सेप्टिक शॉक लगा है। सेप्टिक शॉक एक ऐसी गंभीर स्थिति है, जिसमें रक्तचाप काम करना बंद कर देता है और शरीर के अंग पर्याप्त ऑक्सीजन प्राप्त करने में विफल हो जाते हैं।

10 अगस्त को हुए थे भर्ती फेफड़े में था इन्फेक्शन

सेना के अनुसंधान एवं रेफरल अस्पताल ने बताया था कि 84 वर्षीय मुखर्जी का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने कहा कि वह गहरे कोमा में हैं और वेंटिलेटर पर हैं। पूर्व राष्ट्रपति को 10 अगस्त को यहां अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उनकी मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी। बाद में उनके फेफड़ों में भी संक्रमण हो गया था।

अस्पताल ने एक बयान में कहा था, ‘कल से श्री प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य में गिरावट हुई है। फेफड़े में संक्रमण की वजह से उन्हें सेप्टिक आघात आया है और अभी उनका इलाज विशेषज्ञों की एक टीम कर रही है। वह अब भी गहरे कोमा में हैं और वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं।’ 

Related posts

यूपी के इन जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, पढ़ें पूरी खबर

Shailendra Singh

उत्तर-पश्चिम नाइजीरिया के गांवों में हुई गोलीबारी, 30 लोगों की मौत

rituraj

कोरोना से लगातार होती मौतों से जूझता अमेरिका क्यों खोल रहा मस्जिदे?

Mamta Gautam