November 28, 2021 8:58 pm
featured दुनिया

2 साल की उम्र से योग करना शुरू किया, और बन गया सबसे कम उम्र का योगा टीचर

l yoga teach 1624267273 2 साल की उम्र से योग करना शुरू किया, और बन गया सबसे कम उम्र का योगा टीचर

चीन के रहने वाले सुन चुयांग की उम्र केवल 11 साल है और इस छोटी सी उम्र में ही वो चीन के लोगों को योग सिखा रहा है। सुन के नाम अब तक दो रिकॉर्ड बन चुके हैं।

पहला, वह चीन का सबसे कम उम्र का योगा टीचर है। दूसरा, सून की कमाई 10.90 लाख रुपए प्रतिमाह है, इसलिए वह चीन में अपनी उम्र का सबसे रईस इंसान बन गया है। कठिन से कठिन योगासनों को आसानी से करना और लोगों को सिखाने की कला के कारण सून दुनियाभर में नाम कमा रहा है।

सबसे कम उम्र का सर्टिफाइड योगा ट्रेनर

चीनी मीडिया के मुताबिक, सून दुनिया का सबसे कम उम्र वाला सर्टिफाइड योगा ट्रेनर है। चीन के पूर्वी प्रांत झेजियांग का रहने वाला सू लोगों को प्राचीन भारतीय योग की ट्रेनिंग देता है। चीन के कई बड़े योग सेंटर उसे अपने संस्थान में ट्रेनिंग देने का ऑफर दे चुके हैं।

2 साल की उम्र से की थी योग की शुरुआत

सून ने योग की शुरुआत 2 साल की उम्र से की थी। 6 साल की उम्र तक योग के कारण वह चीन में फेमस होने लगा। 7 साल की उम्र में सून चीन में एक योग सेलिब्रिटी के तौर पर पहचान बना चुका था। सून अब तक 100 से अधिक लोगों को योग में ट्रेंड कर चुका है।

योग से ऑटिज्म को दी मात

सुन की मां का कहना है, 2 साल से कम उम्र में पता चला कि सून ऑटिज्म नाम की बीमारी से जूझ रहा है। इसलिए 2 साल की उम्र में उसे योग सेंटर ले जाया गया। वहां उसने योग सीखना शुरू किया। योग के कारण उसका टैलेंट लोगों के सामने आया और ऑटिज्म नाम की बीमारी पूरी तरह खत्म हो गई।

कई रिसर्च में यह दावा किया गया है कि योग से ऑटिज्म को खत्म किया जा सकता है। इससे जूझने वाले बच्चों को योग कराया जाए तो उनके शारीरिक और मानसिक विकास में सुधार दिखने लगता है।

सून की मां ने भी ली योग की ट्रेनिंग

चीनी मीडिया के मुताबिक, बेटे की जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए सून की मां ने भी योग की ट्रेनिंग ली। उनका मानना है कि बेटे को ईश्वर की ओर से योग एक तोहफे के रूप में मिला है।

Related posts

विकीलीक्स संस्थापक जूलियस असांजे मामला: ब्रिटिश सांसदों ने स्वीडन का साथ देने की अपील की

bharatkhabar

जानिए कैसे एक मैसेज से रातोंरात करोड़पति बना12वीं का ये छात्र

rituraj

अक्षय तृतीया को ही क्यों मनाया जाता है भगवान परशुराम का जन्मोत्सव?

Mamta Gautam