health भारत में तैयार होंगे 10 लाख आरटीपीसीआर किट्स, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिए संकेत

नई दिल्ली। कोरोना संकट को लेकर भारत तेजी से काम कर रहा है। शुक्रवार को स्वास्थ्य मंत्रालय के ज्वॉइंट सेक्रेट्री लव अग्रवाल ने बताया कि मई तक हमारा लक्ष्य है कि हम 10 लाख आरटीपीसीआर किट्स देश में ही तैयार कर लें। वहीं, आईसीएमआर के डॉक्टर गंगाखेदकर ने बताया कि यह वायरस भारत में तीन महीने से है, पर इसका म्यूटेशन इतनी तेजी से नहीं हुआ है। कोरोना के लिए अभी जो भी वैक्सीन आएगी, वह भविष्य में भी काम करेगी

यही नहीं, देश में टेस्टिंग की संख्या में भी तेजी आई है। पिछले एक दिन में देश में पहली बार 30 हजार संदिग्धों के टेस्ट किए गए। इसी के साथ राज्यों ने भी अपने स्तर पर टेस्ट किट जुटाने का कार्य शुरू कर दिया है। कर्नाटक ने रैपिड टेस्ट किट के लिए चीन और आंध्र प्रदेश ने महज दो घंटे में नतीजे बता देने वाली 1 लाख टेस्ट किट के लिए दक्षिण कोरिया से बात की है। इसके लिए शुक्रवार को ही चार्टर्ड विमान भेजा जा सकता है।

शुक्रवार शाम करीब साढ़े चार बजे तक स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, 24 घंटों में देश में कोरोना के 1076 नए केस सामने आए और 32 लोगों की जान चली गई। भारत में इन आंकड़ों के बाद कोरोना के कुल मामलों की संख्या 13835 हो गई है। इनमें 11616 सक्रिय केस हैं, जबकि 1766 लोग ठीक/डिस्चार्ज/माइग्रेट हो चुके हैं। वहीं, 452 लोगों की मौत हो चुकी है।

एक दिन पहले ही स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि मंत्रालय सभी हितधारकों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। अग्रवाल ने कहा कि स्वच्छ पेयजल के लेकर एडवाइजरी जारी की गई है। लोगों को स्वच्छ पेयजल आपूर्ति कराने की कोशिश है। हेल्थ केयर में मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने पर जोर दिया जा रहा है। मंत्रालय की तरफ से कुछ जरूरी इलाज को लेकर गाइडलाइंस जारी की गई है। राज्यों को जरूरी चीजों को लेकर गाइडलाइंस भी जारी की गई हैं।

बिहार में कोरोना पॉजिटिव दूसरे मरीज की मौत, पटना के एम्स में था भर्ती

Previous article

कोटा में फंसे यूपी के 7000 से अधिक छात्र-छात्राओं को योगी सरकार ला रही घर वापस, अखिलेश ने उठाए सवाल

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured