तीन ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने जीता भौतिकी में नोबल

स्वीडन। ब्रिटेन के तीन वैज्ञानिकों -डेविड जे. थौलेस, एफ. डंकन एम. हाल्डेन और जे. माइकल कोस्टरलिट्ज- ने मंगलवार को भौतिकी का नोबल पुरस्कार जीता। इन्हें यह पुरस्कार टोपोलॉजिकल फेज ट्रांजीशन और टोपोलॉजिकल फेज ऑफ मैटर के सैद्धांतिक खोज के लिए दिया गया है। रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ सांइसेज ने यह पुरस्कार सिएटल के वाशिंगटन विश्वविद्यालय के थौलेस, अमेरिका के न्यूजर्सी, पिं्रसटन विश्वविद्यालय के हाल्डेन और न्यूजर्सी के ब्राउन विश्वविद्यालय के कोस्टरलिट्ज को देने का फैसला किया है। इन्हें यह पुरस्कार उन्नत गणितीय तरीकों से असामान्य चरणों या पदार्थ की अवस्थाओं जैसे सुपरकंडक्टर, सुपरफ्लुइड या पतली चुंबकीय फिल्म के अध्ययन के लिए दिया गया।

nobal-prise

नोबल पुरस्कार की आधिकारिक वेबसाइट पर एक बयान में कहा गया है कि इनके इस अनुसंधान कार्य से पदार्थो की नई अवस्थाओं की खोज का कार्य एक नए चरण में है। इससे बहुत से लोग दोनों पदार्थ विज्ञान और इलेक्ट्रॉनिक्स के भविष्य में होने वाले इस्तेमाल के बारे में आशान्वित हैं।