ट्रंप को भारी पड़ा महिलाओं से पंगा, कई नेताओं ने छोड़ा साथ !

वॉशिंगटन। रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप की आलोचना करने वाले पार्टी के नेताओं का शनिवार को तांता लग गया। गवर्नर और सांसद जैसे कम से कम 36 ऐसे रिपब्लिकन नेता हैं जिन्होंने ट्रंप का साथ नहीं देने का निर्णय लिया है। कुछ अन्य ऐसे नेता हैं जिन्होंने वर्ष 2005 में महिलाओं के खिलाफ की गई ट्रंप की टिप्पणी की भर्त्सना की है और उनसे माफी मांगने की मांग की है, लेकिन ऐसे संकेत नहीं दिए हैं कि वे ट्रंप से समर्थन वापस ले रहे हैं।

trump-01

जबकि, उम्मीदवारी छोड़ने की उठती मांग के बीच ट्रंप ने चुनाव मैदान से हटने से साफ इनकार कर दिया है। ट्रंप का वर्ष 2005 का वीडियो सामने आया है जिसमें वह महिलाओं से यौन संबंध बनाने पर कई विवादित बातें कहते नजर आ रहे हैं। उन्होंने महिलाओं के बारे में कई अश्लील टिप्पणियां की थीं। बहुत आलोचना होने के बाद ट्रंप ने शनिवार को ही इसके लिए माफी मांग ली थी।

कई रिपब्लिकन सदस्यों ने कहा कि वे चाहते हैं कि ट्रंप मैदान से हट जाएं ताकि रिपब्लिकन पार्टी के उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार माइक पेंस पार्टी के टिकट पर राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ सकें। कई ऐसे भी हैं जिनका कहना है कि ट्रंप डेमोक्रेटिक पार्टी की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन से बेहतर हैं। कुछ कह रहे हैं कि ट्रंप का आचरण बिलकुल भी ऐसा नहीं है कि उनका समर्थन किया जाए।

पेंस ने शनिवार को कहा कि वह ट्रंप की टिप्पणी को माफ नहीं कर सकते और उनका बचाव भी नहीं कर सकते, लेकिन वह इस बात के लिए ‘आभारी’ हैं कि ट्रंप ने अफसोस जताया है और माफी मांगी है। सीनेट में दूसरे नंबर के रिपब्लिकन नेता टेक्सस के सीनेटर जॉन कार्निन ने ट्वीट किया कि वह ट्रंप के शब्दों से ऊब गए हैं और राष्ट्रपति चुनाव का अभियान जिस स्तर तक नीचे गिर गया है, उससे पूरी तरह से निराश हैं।

सदन के बहुमत के नेता केविन मैकार्थी ने कहा कि अमेरिकी समाज में ट्रंप की भाषा के लिए कहीं कोई स्थान नहीं है और उन्हें हर हाल में पूरी तरह से बिना शर्त माफी मांग लेनी चाहिए। ट्रंप के प्रतिनिधि बेन कर्सन ने कहा कि वह किसी भी तरह से ट्रंप के व्यवहार को माफ नहीं कर सकते लेकिन वह इससे पूरी तरह से आश्वस्त हैं कि प्रतिद्वंद्वी वर्ष 2005 की उनकी इस टिप्पणी को जानते थे और उन लोगों ने अब तक इंतजार केवल उनकी उम्मीदवारी को नुकसान पहुंचाने के लिए किया।

न्यूयार्क के इस अरबपति कारोबारी का साथ बहुत सारे नेताओं ने छोड़ दिया है और कहा है कि वे ट्रंप को वोट नहीं देंगे। ट्रंप की टिप्पणी के लिए इन नेताओं ने उनकी कटु आलोचना की है। एरिजोना के सीनेटर और रिपब्लिकन पार्टी के पूर्व उम्मीदवार रहे जॉन मैक्कन ने कहा कि ट्रंप के व्यवहार ने उनकी उम्मीदवारी के सशर्त समर्थन देने को भी असंभव बना दिया है।

पूर्व विदेश मंत्री कोंडोलीजा राइस ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, बहुत हो चुका। साथ ही कहा कि ट्रंप को राष्ट्रपति नहीं होना चाहिए। उनकी उम्मीदवारी वापस होनी चाहिए। अलास्का की सीनेटर लिसा मुर्कोव्स्की ने कहा कि ट्रंप हम लोगों की पार्टी का उम्मीदवार बनने का अधिकार खो चुके हैं।

उटाह के गवर्नर गैरी हर्बर्ट शुक्रवार को रिपब्लिकन पार्टी के ऐसे पहले गवर्नर रहे जिन्होंने ट्रंप की टिप्पणी के बाद अपना वोट वापस ले लिया। उन्होंने ट्रंप की टिप्पणी को अपमानजनक और घिनौना करार दिया।