म्यांमार सीमा पर हमले में 30 हमलावर ढेर

तीन सीमा चौकियों में मुंगटाव के कईकानपई, राथेदाउंग में कोटांकौक और नागाखुया कार्यालय शामिल है। राष्ट्रपति कार्यालय के अनुसार, अका मूल मुजाहिद्दीन को हमले के लिए दोषी ठहरया गया है, जिसका नेतृत्व हविस्तोहार के द्वारा किया गया। यह संगठन ‘रोहिंग्या एकजुटता संगठन (आरएसओ)’ के आतंकवादी समूह के साथ जुड़ा हुआ है।

प्रारंभिक जांच से पता चला है कि हमले पूर्व आयोजित होते थे, जिसे विदेशी आतंकवादी समूहों द्वारा आर्थिक रूप से समर्थन दिया जाता था। जानकारी के अनुसार, हमलों में मुंगटाव के रहने वाले चरमपंथी शामिल थे, जिसका उद्देश्य मुंगटाव और बूथी को अधिकार में लेना था, जिसे व्यक्तिगत लिंक के माध्यम से मध्य पूर्व के देशों से वित्तीय सहायता दी जाती थी।