बेटी की शादी थी…लेकिन नए नोटों की किल्लत बना देशराज का काल !

बुलंदशहर। सरकार के नोटबंदी के फैसले का असर जहां बैंकों की कतारों में देखने को मिल रहा है वहीं एक बुरी खबर उस वर्ग से है जो मेहनत मशक्कत कर देश के लोगों का पेट भरता है। खबर है कि यूपी के बुलंदशहर में सरकार का ये फैसला एक किसान की मौत का कारण बना है।

death

बताया जा रहा है कि बुलंदशहर के मुरादपुर गांव में रहने वाला किसान देशराज बेटी की शादी के लिए नए नोट जुटाने में लगा था लेकिन नए नोट की व्यवस्था न होने के चलते वो हताश हो गया और मौत को गले लगा लिया। जिसके बिना किसी पुलिसिया कार्रवाई के उसके परिजनों ने उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया।

क्षेत्र के लोगों की मानें तो देशराज ने लगभग 2 महीने पहले अपनी बेटी की शादी तय की थी, जिसकी तारीख 4 दिसंबर थी। लेकिन नए नोट की हताशा ने घर में होने वाले मांगलिक कार्यक्रम को मातम में तब्दील कर दिया। ग्रामीणों की मानें तो पैसों की व्यवस्था और नोटबंदी के चलते परेशान चल रहे देशराज ने अपनी जान दे दी। देशराज की मौत के बाद उसका परिवार सदमे में है। वहीं पूरे गांव में इस घटना के बाद सन्नाटा छाया हुआ है।