जब सुपरहीरो बने विभूति नारायण मिश्रा !

ज्यादा ताकत के साथ बड़ी जिम्मेदारियां भी आती हैं। अंकल बेन ने पीटर पार्कर (सुपरमैन) से यह बात कही थी। हालांकि, विभूति भईया (आसिफ शेख) ने अंगूरी भाबी (शुभांगी अत्रे) को पटाने के लिये सुपरमैन से भी श्रेष्ठ बनने का प्रयास किया है।

 

जब विभूति को पता चलता है कि अंगूरी को सुपरहीरोज से प्यार है, तो वह एक सुपरहीरो बनने में एक पल भी नहीं गंवाता। वह खुद को वी-मैन बुलाता है और उसका दावा है कि वह संकट में औरतों की मदद करता है। इस मामले में वह युवती एकमात्र अंगूरी भाबी हैं। विभूति को यह नहीं पता है कि उसकी यह लोकप्रियता सिर्फ चंद दिनों के लिये है, क्योंकि किसी ने उसका झूठ पकड़ लिया है और उसे ब्लैकमेल कर रहा है। यह रंगीन सुपरहीरो खुद को कैसे बचायेगा, यह वाकई में देखने लायक है।

 

आसिफ शेख ने कहा, ‘‘मैंने अपनी सफलता के दिनों में सुपरहीरो की भूमिका निभाई है और फिर उसके बाद मैं उसका दीवाना हो गया सुपर मैंन। मैंने सुपरहीरोज की तरह कपड़े पहनने का प्रयास किया। मुझे कॉलोनी में सुपरहीरो के काॅस्ट्यूम्स में घूमते हुये देखना एक दिलचस्प नजारा था। हालांकि, बहुत ज्यादा बदलाव नहीं हुआ है। मेरी उसके बाद जमकर पिटाई हुई और आप मुझे अब भी पिटते हुये देखेंगे।‘‘