पीडीएफ और कांग्रेस के बीच रार के खत्म होने के नहीं दिखते आसार

देहरादून। विधानसभा चुनाव के पहले सूबे में कांग्रेस की सहयोगी पार्टी पीडीएफ और कांग्रेस के बीच रार खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। हांलाकि सरकार में कैबिनेट मंत्री और पीडीएफ के संयोजक मंत्री प्रसाद नैथानी किसी की तरह के विरोध से साफ इनकार कर रहे हैं। मगर पार्टी के दूसरे नेता लगातार विरोधाभासी बयान दे काग्रेस के साथ नूरा-कुश्ती जारी रखे हुए हैं।

mantri-prasad-naithani

काग्रेस को विधान सभा चुनाव में अपनी चुनावी गणित बैठाने के लिए पीडीएफ के सहयोग की जरूरत है और पीडीएफ को सूबे में अपने राजनैतिक वर्चस्व को कायम रखने के लिए सत्ता की लेकिन लगातार दोनों पार्टियों की ओर से जबाबी बयान बाजी से साफ जाहिर है कि पीडीएफ और कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है।

सरकार में पीडीएफ के कोटे से मंत्री दिनेश धनै ने कांग्रेस के खिलाफ तीखे मिजाज कायम रखे हैं। धनै ने कहा है कि वो टिहरी से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे और कांग्रेस इनके खिलाफ अपना प्रत्याशी उतार सकती है। लेकिन पीडीएफ संयोजक मंत्री प्रसाद नैथानी कांग्रेस और पार्टी के बीच जारी गतिरोध के बाद भी कांग्रेस ने साथ अपना सहयोग जारी रखेंगे। उन्होंने साफ का कि निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा किसी की स्वयं की हो सकती है, पर पार्टी कांग्रेस के साथ है।

फिलहाल उत्तराखंड में पीडीएफ के नेताओं और कांग्रेस के नेताओं के बीच जारी बयान बाजी के बाद पीडीएफ नेताओं की आपसी बयानबाजी ने कांग्रेस के लिए चिंता बढा दी है। ठीक विधान सभा चुनाव के पहले उसके सहयोगी दल में इस तरह की बातें उसके लिए सत्ता वापसी के सपनों को तोड़ने की कोशिश जैसा है।