लालबत्ती दिलाने के नाम पर हुई ठगी

मेरठ।आये दिन प्रदेश में हो रहे फर्जीवाड़े को देखते हुए पुलिस और लोगों की जागरूकता का अंदाजा इसी बात से हो जाता है, कि कभी नेता के नाम पर तो नौकरी लगाने के नाम पर लाखों रूपये की ठगी कर ली जाती है और पुलिस केवल हाथ पर हाथ धरे रह जाती है। ताजा मामला मेरठ का है जहां एक नया ही वाकया सामने आया है इस बार ये ठगी नौकरी या किसी अन्य चीज के लिए नहीं बल्कि लालबत्ती यानी वीवीआईपी श्रेणी दिलाने के नाम पर की गई है।

lalbati

मामला यूपी के मेरठ जिले का है जहां आज शहजाद नाम के एक व्यक्ति ने एसएसपी कार्यालय में अपने साथ लालबत्ती दिलाने के नाम पर ठगी करने वालो के खिलाफ एसएसपी से कार्रवाई की मांग की है।शहजाद ने बताया कि नवाब कुरैशी पुत्र शहाबुद्दीन कुरेशी निवासी सद्दीक नगर थाना लिसाडी गेट मेरठ ने उसे लालबत्ती दिलाने के नाम पर लखनऊ निवासी डॉक्टर राम सेवक यादव जो अपने आपको सीएम अखिलेश यादव की बुआ का लड़का बता रहा था उसे लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के पास वीवीआईपी गेस्ट हाउस में मुलाकात कराई थी।

जहां पर उक्त दोनों ने उसे लालबत्ती दिलाने के नाम तीस लाख रुपए की मांग कीजिस पर शहजाद ने दस लाख रूपए कैश उनको तुरंत दे दिया बाकी पैसा लालबत्ती दिलाने के बाद 2 दिन के अंदर देने की बात तय हुई थी उसके बाद लगातार उसको लखनऊ गेस्ट हाउस में बुलाते रहे और कुछ दिन बाद उनसे 5 लाख रूपए और ले लिए लेकिन उसे हर बार कुछ ना कुछ कह कर टालते रहे।

लेकिन जब शहजाद का अपने साथ हुई ठगी का एहसास हुआ तो उसने अपने पैसे वापस मांगे। लेकिन उक्त लोग पैसे देने में हालाहवाली करने लगे ऐसे में हालत के आगे मजबूर शहजाद ने आखिरकार जब पुलिस अधीक्षक से इस बावत शिकायत की तो पूरा प्रकरण प्रकाश में आया किस तरह लोग सरकार के नाम पर लोगों से ठगी कर सरकार की गलत छबि को प्रकाशित कर रहे हैं। इस बावत आज शहजाद ने एसएसपी कार्यालय पर जाकर एसएसपी जे रविंदर गौड से अपने साथ ठगी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग के साथ अपने पैसे वापस दिलाने की गुहार लगाई।