आंदोलनकारियों पर पुलिस का लाठीचार्ज

गोण्डा।इटियाथोक कस्बे में इंटरसिटी ट्रेन के स्टॉपेज की मांग को लेकर 5 दिनों से शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन कर रहे कस्बे व क्षेत्रवासियों पर आज पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। 5 दिन से चल रहे आंदोलन के आज आखिरी दिन आंदोलनकारी रेल रोकने का कार्य करने वाले थे। सीओ सदर भरतलाल यादव के नेतृत्व में धरनास्थल पर जुटे भारी पुलिस बल ने आंदोलन समाप्त करने के पूरे प्रयास किये किन्तु प्रयास असफ़ल होने पर पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए लाठीचार्ज कर दिया ।

gonda-andolan

आंदोलन के मुखिया दिनेश शुक्ल को पुलिस जबरन थाने ले आई। लाठीचार्ज से गुस्साए आंदोलनकारी व क्षेत्र के व्यपरियों, ग्रामीणों, किसानों व गणमान्य व्यक्तियों ने हज़ारों की संख्या में पहुँच थाना घेर लिया। थाने पर चढ़ आए भारी जनसैलाब ने प्रशासन, पुलिस व सरकारों के विरुद्ध जमकर नारे लगाए। इस पुरे मामले में जहाँ पुलिस  आंदोलन के मुखिया दिनेश शुक्ल सहित 47 आंदोलनकारियों को धारा 151 में चालान कर वाहन में भर पुलिस लाइन ले आयी, वहीँ इनके सहित 150 अन्य अज्ञात लोगों के विरूद्ध आईपीसी की गंभीर धाराओं 147, 353, 504, 506, 307 व 7 क्रिमनल लॉ एक्ट में एफआईआर दर्ज करने की तैयारी कर रही हैं।

जबकि आंदोलन के मुखिया दिनेश शुक्ल लाठीचार्ज की घटना की उच्च स्तरीय जाँच की मांग करते हुए कह रहे है कि हम लोग आंदोलन शांतिपूर्ण कर रहे थे, पुलिस ने बर्बर लाठीचार्ज कर अन्याय किया है। दिनेश शुक्ल जेल में भी आंदोलन की बात कहते हुए बोल रहे है कि हम तब तक आंदोलन करेंगें जब तक गौरखपुर से बढ़नी, बलरामपुर, गोंडा व बाराबंकी होते हुए लखनऊ पहुँचने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन इटियाथोक नहीँ रुकने लगेगीं।

जिले के  इटियाथोक कस्बे में थाने पर हजरों की संख्या में विरोध प्रदर्शन कर रहें, क्षेत्र के कर रहे व्यपारी, किसान व् ग्रामीण कुछ ही माह पूर्व चालू हुयी गोरखपुर से बढ़नी, बलरामपुर व गोंडा होते हुए लखनऊ जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन के इटियाथोक स्टेशन पर रुकने की मांग को लेकर आंदोलित हैं। सरकार व प्रसाशन पर कोई असर होता न देख, पांच दिनों से चल रहे आंदोलन के आज अंतिम दिवस पर ये आंदोलनकारी ट्रैन रोकने वाले थे।

इस ट्रैन रोको आंदोलन को जिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया और भोर में ही पांच थानों की पुलिस के साथ  पहुचें एसडीएम व दो-दो सीओ ने आंदोलनकारियों का ट्रैन रोकने का कार्यक्रम विफल बना दिया और आंदोलनकारियों को गिरफ्तारी देने के लिए तैयार कर लिया। किन्तु इसी बीच कुछ असंतुष्ट उपद्रविओं ने बाजार में पथराव कर शांतिपूर्ण चल रहे आंदोलन को हिंसक बना दिया। स्थिति काबू में करने के लिए लाठीचार्ज किया। इस मामले में ज़िले के एसपी सुधीर सिंह बता रहे हैं कि उपद्रव कर रहे पुलिस 47 लोगों को 151 में चालान कर  पुलिस लाइन लाया गया है और इनके साथ अज्ञात 150 अन्य लोगों के विरुद्ध संगीन धाराओं में मुकद्दमा दर्ज कर गिरफ्तार लोगों को जेल भेजा जा रहा है।

 

rp_gonda(विशाल सिंह, संवाददाता)