पुलिस स्मृति दिवस पर नम हुईं अखिलेश की आंखें

लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को राजधानी लखनऊ के पुलिस लाइन ग्राउंड में आयोजित पुलिस स्मृति दिवस परेड में पुलिस जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया और इसके बाद सीएम ने पुलिस के 116 शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी।

tttttt

अखिलेश ने शहीदों की विधवाओं को किया सम्मानित
आज पुलिस शहीद दिवस पर शहीद के परिवारो को सम्मानित करने पहुंचे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भावुक हो गए। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लखीमपुर खीरी में तैनात रहे शहीद सिपाही विक्रम प्रताप की पत्‍‌नी तनु उर्फ अर्चना और चार अन्य शहीद पुलिसकर्मियों की पत्नियों को 25-25 हजार रुपये व शाल भेंट कर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित करते समय पांचों शहीद पुलिस कर्मियों की पत्नियों सुबुक पड़ीं। उनका दुख देख वहां खड़ी महिला पुलिसकर्मियों की पलकें भी नम हो गई।

yyyyyyyyyyyyyyyyyyyy

मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित किए जाने के समय शहीद सिपाही विक्रम प्रताप सिंह की पत्री पति का जिक्र आते ही टूट गई। फिर खुद को संभालते हुए उन्होने अपनी इच्छा जाहिर करते हुए कि वह ससुराल में पति की मूर्ति लगवाने के साथ ही उनके नाम से एक रोड बनवाना चाहती हूं। तनु के मुताबिक उसके ससुराल वाले उसका सहारा नहीं बने और उसे मायके भेज दिया गया।खलीक अहमद की पत्‍‌नी शकीला को पुलिस स्मृति समारोह में मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया।शकीला के तीन बेटियां व एक बेटा है। एक बेटी की शादी हो चुकी है। वह कहती हैं कि सरकार उनकी बेटियों की शादी के लिए मदद की।

शहीदों के मां -पिता को 5-5 लाख की सहायता
पुलिस स्मृति दिवस पर मुख्यमंत्री ने शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित की, शहीदों के परिजनों को ढांढ़स भी बंधाया। शहीद पुलिसकर्मियों के माता पिता को 5 5 लाख की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की। अखिलेश यादव ने कर्तव्यपालन के दौरान अपने प्राणों को न्यौछावर करने वाले पुलिसकर्मियों को आज यहां पुलिस लाइन में पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर अपनी श्रद्धांजलि देने के उपरान्त कहा कि राज्य सरकार शहीदों के परिवारों के कल्याण के लिए सभी जरूरी कदम उठा रही है।

इस अवसर पर उन्होंने शहीद पुलिसकर्मियों के माता-पिता को भी 05 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की। ज्ञातव्य है कि प्रदेश की समाजवादी सरकार द्वारा प्रत्येक शहीद पुलिसकर्मी की पत्नी को 20 लाख रुपये की मदद पहले ही दी जा रही है। उन्होंने अराजपत्रित पुलिसकर्मियों के पौष्टिक आहार भत्ते में 100 रुपये की मासिक बढ़ोत्तरी की भी घोषणा की।मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त बनाए रखने के लिए पुलिस को स्पष्ट निर्देश दिये गये हैं कि किसी भी अपराधी के खिलाफ, चाहे वह कितना भी प्रभावशाली क्यों न हो, पुलिस पूरी ईमानदारी से सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई करे, जिससे प्रदेश में शान्ति और सुरक्षा का माहौल कायम रहे।

पुलिस के सामने हैं कई चुनौतियां
उन्होंने कहा कि आज के तेजी से बदलते हुए परिवेश में अपराध के नए-नए तरीके इजाद हो रहे हैं। इससे पुलिस के सामने लगातार नई-नई चुनौतियां पैदा हो रही हैं। खासतौर पर आर्थिक अपराधों के मामलों में लगातार नए आयाम जुड़ रहे हैं। इण्टरनेट क्राइम, साइबर क्राइम जैसे अपराधों के नए तौर-तरीके अपराधियों द्वारा ढूंढे़ जा रहे हैं।

पुलिस को जनता के लिए बनाना है प्रभावी
ऐसे में, पुलिस को भी आधुनिक तकनीक की जानकारी देकर सक्षम तथा प्रभावी बनाने की जरूरत है, ताकि ऐसे अपराधों पर लगाम लगाई जा सके। श्री यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा अत्यन्त विषम परिस्थितियों में भी कानून-व्यवस्था सुदृढ़ रखने तथा साम्प्रदायिक सौहार्द बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी गई है। इससे आम जनता में सुरक्षा की भावना मजबूत हुई है एवं पुलिस के प्रति विश्वास बढ़ा है। प्रदेश पुलिस अपराध नियंत्रण एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने हेतु प्रतिबद्ध है तथा त्वरित सक्रियता से रिस्पांन्स टाइम को कम करके न्यूनतम समय में आम जनता को सहायता पहुंचाने की ओर अग्रसर है।
इससे पहले कार्यक्रम स्थल पहुंचने के उपरान्त मुख्यमंत्री ने पुलिस स्मृति दिवस परेड की सलामी ली। इस अवसर पर उन्होंने शहीदों की स्मृति में निर्मित स्मारक पर पुष्पचक्र चढ़ाने के बाद उन्हें नमन भी किया। इसके बाद उन्होंने शहीदों के परिजनों से मुलाकात कर उन्हें ढांढ़स बंधाया और सम्मानित भी किया।कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए पुलिस महानिदेशक श्री जावीद अहमद ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 01 सितम्बर, 2015 से 31 अगस्त, 2016 की अवधि में 116 पुलिस कर्मियों ने कर्तव्यपालन के दौरान शहादत दी। उन्होंने शहीदों के प्रति अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की। कार्यक्रम के दौरान प्रदेश विधान सभा अध्यक्ष के अलावा मंत्रिमण्डल के कई सदस्य तथा प्रमुख सचिव गृह श्री देबाशीष पण्डा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

मेरठ में भी हुआ आयोजन
इसी क्रम में पूरे प्रदेश में जगह-जगह पर पुलिस अधिकारियों ने शहीद पुलिसकर्मियों को
श्रद्धांजलि अर्पित की मेरठ में पुलिस स्मृति दिवस पर पुलिस लाईन मे शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए आई जी अजय आनंद और एसएसपी जे रविंद्र गौड ने शहीद पुलिस कर्मियों के साहस और कर्तव्यपालन पर गर्व महसूस करते हुए पुलिस लाइन में अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किए।

Akeel New(अकील सिद्दीकी,संवाददाता)