मैं अभी कमजोर नहीं हुआ हूं समाजवादी पार्टी टूट नहीं सकती- मुलायम

लखनऊ। पार्टी कार्यालय पर चल रही बैठक में अखिलेश शिवपाल के सम्बोधन के बाद आज सार्वजनिक तौर पर नेताजी ने मंच संभालते हुए कहा कि पार्टी में तनातनी से आहत हूं,पार्टी में चल रहे झगड़ों से दुखी हूं पार्टी में टकराव से दूर हो। मैं लोहिया जी के रास्ते पर चल कर आगे बढ़ा। इमरजेंसी के दौरान जेल में रहा,गरीबों और किसानों के लिए संघर्ष किया। कौन नहीं जानता कि पार्टी बनाने में बहुत संघर्ष किया है।

mulayam_1

मुलायम ने संघर्ष को याद कर दी नसीहत

आज पार्टी की कलह से आहत हूं। पार्टी बनाने के लिए हमने लाठियां खाई,जो उछल रहे हैं एक लाठी झेल नहीं पाएंगे। जो आलोचना सह नहीं सकता वो नेता नहीं बन सकता। आलोचना सही है तो सुधार करो। कमी दूर करने के बजाए हम लड़ने में लगे हैं। जो बड़ा नहीं सोच सकता वो कभी नेता नहीं बन सकता। कुछ नेता सिर्फ चापलूसी करते हैं। अखिलेश पर हमलावर होते हुए सपा सुप्रीमो ने कह कि पद मिलते ही आपका दिमाग खराब हो गया है। क्या जुआरियों,शराबियों की मदद कर रहे हो?,नारेबाजी करने वालों को हम बाहर करेंगे। नौजवान ये ना समझे की मेरे साथ नही हैं,मैंने नौजवानों को सम्मान दिया। लेकिन नारेबाजी और चापलूसी से सरकार नहीं बनती,हम चापलूसों को पसंद नहीं करते हैं।

sp-ka-hangama

अमर को लेकर बरसे मुलायम

मुलायम ने शिवपाल का साथ देते हुए कहा कि शिवपाल के कामों को कभी नहीं भूल सकता और अंसारी का सम्मानित परिवार है। मैं अभी कमजोर नहीं हुआ हूं समाजवादी पार्टी टूट नहीं सकती है। अमर सिंह पर बोलते हुए मुलायम ने कहा कि तुम अमर सिंह को गाली देते हो,अमर सिंह ने मेरी बहुत मदद की। मैं उनके खिलाफ एक शब्द नहीं सुन सकता। वो मेरे भाई जैसे हैं। अमर सिंह ने मुझे जेल जाने से बचाया है। शिवपाल और अमर के खिलाफ नहीं सुन सकता हूं मैं लोहिया जी कहते थे कमजोरों को 100 खून माफ होते हैं।

Mulayam

शिवपाल सबसे प्यारे-मुलायम

शिवपाल यादव आम जनता के नेता हैं। अखिलेश को कहते हुए मुलायम बोले कि क्या तुम अकेले चुनाव जिता सकते हो।  मैं और शिवपाल कभी अलग नहीं हो सकते हैं। शिवपाल मुझे कुर्सी पर बैठाता था और खुद जमीन पर बैठता था,लाल टोपी पहनने से कोई समाजवादी नहीं बन जाता। तुम जिन लोगों के बारे में बोल रहे हो तुम्हारी हैसियत ही क्या है। ओम प्रकाश के ऊपर कितनी लाठिया पड़ी है तुमको पता है क्या? आज तब सेओम प्रकाश मेरे साथ है। अखिलेश को नसीहत देते हुए मुलायम ने कहा कि इंसान को  एहसान फरामोश नहीं होना चाहिए।

akhilesh_shivpal_1

गले गलो चाचा के अखिलेश

लगातार सपा सुप्रीमो ने अखिलेश को फटकार लगाते हुए एक के बाद एक नसीहत दे डाली। फिर कहा कि शिवपाल वो है जो चुनाव जिता भी सकता है और हरा भी सकता है। फिर अखिलेश से कहा शिवपाल चाचा है तुम्हारे उठो लगे लगो और फिर अखिलेश को बोला जाओ चाचा के गले लगो फिर दोनों को गले लगवाया। फिर अखिलेश यादव ने शिवपाल के पैर छुए।

गले लगते हुए जुदा शिवपाल-अखिलेश

मुलायम को लगा कि पहले की तरह सब शांत हो गया है लेकिन ऐसा ना था गले जरूर लगे थे पर दिल नहीं मिलेथे। मुलायम का भाषण खत्म होते ही मंच पर दो नेताओं में आपस में धक्का-मुक्की हुई,माइक पर जबरन बोलने के लिए कहासुनी भी हुई।

akhilesh_shivpal_2

बिगड़ा समाजवादी पार्टी में माहौल

मीटिंग मे माहौल अचानक बिगड़ा,मुख्यमंत्री और शिवपाल के बीच सीधी कहासुनी हुई इसके बाद सपा दफ्तर से मुख्यमंत्री अखिलेश निकले । मुख्यमंत्री अपने साथ आशू मलिक को ले गए।मीटिंग के बाहर और भीतर तनाव फैल गया है। पार्टी कार्यालय के बाहर अखिलेश और शिवपाल के समर्थकों में मारपीट हो रही है । इसी बीच मुलायम और शिवपाल भी दफ्तर से चले गए हैं। लड़ाई खत्म करने के लिए आयोजित मीटिंग अब खत्म हो गई है। अखिलेश ने आरोप लगाते हुए कहा कि झूठ क्यूं बोला गया। मेरी छबि खराब की गई। अब जल्द ही अखिलेश और शिवपाल अलग-अलग प्रेस कर सकते हैं।

lucknow-plice

पार्टी दफ्तर के बार सपा के युवा कार्यकर्ताओं के बीच हो रही झड़पों से प्रशासन ने काबू पाने के लिए भारी तादात से सुरक्षा बलों को लगा दिया है। प्रदेश में अराजकता का माहौल ना बने इसके लिए प्रशासन ने अब कमर कसी है।