अखिलेश की समाजवादी विकास रथयात्रा पर माया का तंज

लखनऊ। एक तरफ अखिलेश अपने समाजवादी विकास रथ में सवार हो जनता के बीच जाकर अपने किए कामों को हिसाब दे सत्ता में वापसी के सपने संजो रहे हैं , वही दूसरी तरफ बसपा सुप्रीमो मायवती आज अखिलेश पर हमलावर हो उनकी नीतियों पर सवालिया निशान लगा रहीं हैं।

mayawati-blaims-up-govt-for-death-in-rally-stampede

मायावती ने एक के बाद एक ने गम्भीर आरोप लगाते हुए सपा सरकार को अपने सवालों के घेरे में ले लिया। सबसे पहले सपा की रथयात्रा पर मायावती ने सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि सीएम की विकास रथ यात्रा दिवालिया रथयात्रा है। करोड़ो की लग्जरी रथयात्रा ने प्रदेश का दिवाला निकाल दिया है। रथयात्रा पर लगातार हमलावर रहते हुए मैडम माया ने कहा कि सपा की रथयात्रा में हुड़दंगबाजों ने खूब मारपीट की, रथयात्रा के दौरान रास्ते में लूटते-खसोटते करते रहे हुड़दंगबाज और पुलिस मजबूर हो बस तमाशा देखती रही।

इसके बाद कामों को लेकर माया का अंदाज गरम रहा। माया ने कहा कि सपा सरकार ने जनहित के काम नहीं किये हैं। जनहित के काम करती तो रथयात्रा निकालना नहीं पड़ता। फिर सपा सरकार द्वारा बार-बार बसपा शासन में बने पार्कों स्मारकों पर निशाना साधने को लेकर माया ने कहा कि महापुरुषो के नाम पर हमने स्मारक बनवाये थे। स्मारको,पार्कों को सपा ने फिजूलखर्ची बताया था। लेकिन लोहिया पार्क,इटावा में लायन सफारी पर क्या फिजूलखर्ची नहीं, सैफई महोत्सव में अरबों का खर्च क्या फिजूलखर्ची नहीं। अखिलेश के विकास रथयात्रा के बाद माया ने अपने तेवर में जबाब देते हुए 2017 में पूर्व बहुमत सरकार बनाने का दावा किया।