हिलेरी के ईमेल मामले की जांच करेगा विदेश मंत्रालय

वॉशिंगटन। अमेरिका का विदेश मंत्रालय हिलेरी क्लिंटन के ईमेल से संबंधित विवादों की जांच करेगा। उन पर साल 2009-2013 के दौरान विदेश मंत्री रहते हुए आधिकारिक कार्यो के लिए निजी ईमेल सर्वर के इस्तेमाल का आरोप है। सीएनएन की एक रपट के मुताबिक, विदेश मंत्रालय द्वारा गुरुवार रात की गई घोषणा आशातीत थी, क्योंकि मंत्रालय ने अपनी जांच रद्द कर दी थी और वह न्याय विभाग द्वारा आपराधिक जांच पूरी होने का इंतजार कर रहा था।

Hilery

विदेश मंत्रालय अब खुद को इस बात पर केंद्रित करेगा कि निजी सर्वरों से क्लिंटन के ई-मेल को भेजने या प्राप्त करने के मामले में शामिल वर्तमान कर्मचारियों के खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई की जाए या नहीं, जिसके तहत उन्हें चेतावनी देने से लेकर उनकी सुरक्षा मंजूरी रद्द की जा सकती है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने एक बयान में कहा, “न्याय विभाग की जांच पूरी होने के बाद विदेश मंत्रालय का इरादा विभाग की आंतरिक समीक्षा करने की है।”

उन्होंने कहा, “मंत्रालय की समीक्षा के बारे में मैं विशिष्ट सूचना नहीं दे सकता। हमारा लक्ष्य इसे यथासंभव पूरा करने का होगा, लेकिन हम इस प्रक्रिया को लेकर कोई झूठी तारीख नहीं दे सकते। हमारा लक्ष्य हमारे परिणामों के बारे में यथासंभव पारदर्शी रखना होगा।”

(आईएएनएस)