रजत पदक अमान्य: रुसी पहलवान ने खटखटाया अदालत का दरवाजा

मास्को।रूसी पहलवान खसन बारोयेव ने 2008 बीजिंग ओलम्पिक में जीते रजत पदक को अंतर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति (आईओसी) द्वारा अमान्य घोषित किए जाने पर अदालत का दरवाजा खटखटाने का निर्णय किया है। एथेंस में हुए ओलम्पिक खेल-2004 के स्वर्ण पदक विजेता खसन ने कहा कि वह आईओसी की इस कार्रवाई के खिलाफ अदालत में याचिका दायर करेंगे।आईओसी ने गुरुवार को एक आधिकारिक बयान में कहा था कि उसने 2008 बीजिंग ओलम्पिक से खसन को अयोग्य घोषित किया है, जिसमें उन्होंने पुरुषों की 120 किलोग्राम वर्ग प्रतियोगिता में रजत पदक जीता था।

boxing_galavs

बीजिंग ओलम्पिक में लिए गए उनके नमूनों के पुनर्विश्लेषण का परिणाम पॉजिटिव आने पर यह फैसला लिया गया है।इस फैसले के कुछ समय बाद ही खसन ने कहा कि वह अदालत जाएंगे।समाचार एजेंसी तास के अनुसार, खसन ने कहा कि वह अपने हक और पदक के लिए लड़ेंगे।आईओसी की इस सूची में भारोत्तोलक खाद्जीमुरत अक्काएव, दिमित्री लापिकोव का नाम भी शामिल है। इसके अलावा समिति ने एलेना स्लेसारेंको को भी अयोग्य घोषित किया है