राजकोट टेस्ट: बड़े स्कोर के जबाब में भारत की मजबूत स्थिति

राजकोट।इंग्लैंड ने सौराष्ट्र क्रिकेट स्टेडियम में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के दूसरे दिन गुरुवार को भारत के खिलाफ अपनी पहली पारी में सभी विकेट गंवाते हुए 537 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया है। जवाब में भारत ने दिन का खेल खत्म होने तक अपनी पहली पारी में बिना कोई विकेट गंवाए 63 रन बना लिए हैं। मुरली विजय (25) और गौतम गंभीर (28) की भारतीय सलामी जोड़ी स्टम्पस होने तक विकेट पर डटी हुई है। मेजबान अभी भी मेहमानो से 474 रन पीछे है।

test-match

मजबूत स्कोर का सामना कर रही मेजबान टीम की सलामी जोड़ी ने पारी की बेहतरीन शुरुआत की है। दोनों ने संयम के साथ पारी का आगज किया और अंत तक डटे हुए हैं। गंभीर 68 गेंदों में चार चौके लगा चुके हैं वहीं विजय ने अभी तक 70 गेंदों का सामना किया है और चार चौके लगाए हैं।

इंग्लैंड को विशाल स्कोर तक पहुंचाने में जोए रूट (124), मोइन अली (117) और बेन स्टोक्स (128) की शतकीय पारियों का योगदान रहा। यह इंग्लैंड का भारत में दूसरा सर्वोच्च स्कोर है। इससे पहले उसने 1985 में चेन्नई में सात विकेट के नुकसान पर 652 रन बनाए थे।

इंग्लैंड को इस स्कोर तक पहुंचाने में भारतीय फील्डरों का भी बड़ा हाथ रहा। भारतीय खिलाड़ी ने मैच के दोनों दिन अहम समय पर कैच छोड़ कर इंग्लैंड के बल्लेबाजों को रन बनाने के मौके दिए। विकेटकीपर साहा ने स्टोक्स का 60 और 61 के निजी स्कोर पर कैच छोड़ा। यह दोनों कैच उमेश यादव के गेंद पर थे।

भारतीय खिलाड़ियों ने न सिर्फ कैच छोड़े बल्कि मैदानी फील्डिंग में सुस्ती दिखाई जिसकी वजह से इंग्लैंड के बल्लेबाजों को रन लेने में कोई परेशानी नहीं हुई।

इंग्लैंड ने पहले दिन के पहले सत्र में ही अपने तीन विकेट गंवा दिए थे लेकिन उसके बाद रूट और अली ने चौथे विकेट के लिए 179 रनों की साझेदारी कर न सिर्फ टीम को संभाला बल्कि दिन की समाप्ति तक मजबूत स्कोर में पहुंचा दिया था। हालांकि शतक पूरा करने के बाद रूट पहले दिन के तीसरे सत्र में ही पवेलियन लौट गए थे। 180 गेंदों में 11 चौके और एक छक्के लगाने वाले रूट ने इस मैच में एशिया में अपना सर्वाधिक स्कोर बनाया।

दूसरे दिन अली ने स्टोक्स के साथ पारी को 311 रन पर चार विकेट से आगे बढ़ाया। अली ने स्टोक्स के साथ पांचवें विकेट के लिए 62 रनों की साझेदारी की। विकेट पर जम चुके अली को मोहम्मद समी ने पवेलियन भेजा। अली ने अपनी पारी में 213 गेंदे खेलीं और 13 चौके लगाए।

अली के जान के बाद भी मेजबानों की परेशानी कम नहीं हुई थी। स्टोक्स ने जॉनी बेर्यस्ट्रो के साथ इंग्लैंड के विशाल स्कोर की ओर कदम बढ़ाए और छठे विकेट के लिए 99 रन जोड़े। बेर्यस्ट्रो को समी ने 442 के स्कोर पर अपना दूसरा शिकार बनाया।

क्रिस वोक्स (4) और आदिल राशिद (5) जल्दी पवेलियन लौट गए। जफर अंसारी (32) ने स्टोक्स के साथ टीम का आंकड़ा 500 के पार पहुंचाया। 517 के कुल स्कोर पर उमेश यादव ने स्टोक्स को आउट पर भारत के राहत की सांस दी। उन्होंने 235 गेंदों में 13 चौके और दो छक्के लगाए।

अंसारी इंग्लैंड की तरफ से आउट होने वाले आखिरी बल्लेबाज रहे।

भारत की तरफ से रवींद्र जडेजा ने सर्वाधिक तीन विकेट अपने नाम किए। रविचन्द्रन अश्विन, उमेश और समी को दो-दो विकेट मिले। अमित मिश्रा को एक सफलता मिली।

भारत के खिलाफ किसी टीम के बल्लेबाजों ने एक ही पारी में 2009 के बाद पहली बार तीन शतक लगाए हैं। इससे पहले यह कारनामा श्रीलंकाई बल्लेबाजों ने अहमदाबाद के सरदार पटेल मोटेरा स्टेडियम में किया था।