आईएसएल में पुणे को हराकर शीर्ष चार में पहुंचना चाहेगा केरल

कोच्चि। केरला ब्लास्टर्स टीम के कोच स्टीव कोपेल मानते हैं कि उनकी टीम के हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के सेमीफाइनल में पहुंचने के पूरे आसार हैं। केरल की टीम शुक्रवार को यहां के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में एफसी पुणे सिटी का सामना करेगा और यह मैच जीतकर वह शीर्ष चार में जगह बनाना चाहेगी। अभी यह टीम 11 मैचों से 15 अंक लेकर पांचवें स्थान पर है। पुणे की बात करें तो यह टीम 12 मैचों से 15 अंक लेकर चौथे स्थान पर है और वह केरल के खिलाफ होने वाले इस अहम मैच से तीन अंक लेते हुए खुद को दूसरे स्थान पर काबिज करते हुए सेमीफाइनल का टिकट सुनिश्चित करना चाहेगी।

isl

ऐसे में जबकि केरल के खाते में इस सीजन में अब सिर्फ तीन मैच बाकी हैं, कोपेल हर मैच से हासिल होने वाले पूरे अंकों की अहमियत को बखूबी समझते हैं। यही कारण है कि वह चाहते हैं कि उनके खिलाड़ी अपने घर में होने वाले इस मैच में अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन करें। कोपेल ने कहा, “11 मैचों के बाद हम क्वालीफाई करने की स्थिति में हैं। अगर हम अपनी क्षमता के साथ न्याय करने मे सफल रहे तो हमारे प्लेऑफ में पहुंचने के अच्छे आसार हैं। इस सीजन की शुरुआत से ही यह हमारा लक्ष्य रहा है। अच्छी शुरुआत के बाद लोगों को हमसे उम्मीद बंधी थी लेकिन बीच में यह उम्मीद टूटती दिखी थी। अब एक बार फिर हम क्वालीफाई करने की स्थिति में हैं और हमें यह मौका किसी भी हाल में हाथ से जाने नहीं देना चाहिए।”

केरल को अपने पिछले मैच में मुम्बई सिटी एफसी ने अपने घर में 5-0 से हराया था। कोपेल मानते हैं कि वह हार काफी निराशाजनक थी लेकिन इसका अगले मैच से कुछ लेना या देना नहीं है। बकौल कोपेल, “वह मैच अब समाप्त हो चुका है। हमने उस मैच से काफी कुछ सीखा है। हम मुम्बई का सम्मान करते हैं। यह अच्छी टीम है। अब हम आगे देख रहे हैं और हमारा ध्यान पूरी तरह पुणे के साथ होने वाले मैच पर है।”

दूसरी ओर, पुणे के लिए भी यह हर हाल में जीत हासिल करने वाली स्थिति है। यह टीम अगर अपने अगले दो मैचों में अधिकतम अंक नहीं हासिल कर पाती है तो इसके प्लेऑफ की दौड़ से बाहर होने का खतरा है लेकिन अगर वह ये अंक हासिल कर लेती है तो फिर वह अंतिम-4 दौर में पहुंच जाएगी। पुणे के कोच एंटोनियो हाबास बीमार हैं और उनकी गैरमौजूदगी में मैच पूर्व संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए सहायक कोच डेविड मोलिनर ने कहा, “यह मैच जीतना अनिवार्य है क्योंकि छह सात टीमें तीन स्थान के लिए जोर लगा रही हैं। गोवा को ही लें, अगर वह एटलेटिको दे कोलकाता के खिलाफ जीत जाता है तो फिर उसके भी अंतिम-4 दौर में पहुंचने की उम्मीद बन जाएगी।”