हॉकी : भारत एशियन चैम्पियंस ट्रॉफी के फाइनल में

कुआंटान | भारतीय पुरुष सीनियर हॉकी टीम ने अपने स्टार गोलकीपर और कप्तान पी. आर. श्रीजेश की बदौलत शनिवार को एशियन चैम्पियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल मुकाबले में दक्षिण कोरिया को पेनाल्टी शूटआउट में हराकर फाइनल में प्रवेश कर लिया। निर्धारित समय का खेल 2-2 से बराबर रहने के बाद परिणाम के लिए मैच पेनाल्टी शूटआउट में गया।पेनाल्टी शूटआउट में दोनों टीमें अपने शुरुआती 3-3 प्रयासों में सफल रहीं। श्रीजेश ने दक्षिण कोरिया का चौथा प्रयास तो विफल कर दिया, लेकिन गलत टैकल की वजह से कोरिया को पेनाल्टी स्ट्रोक मिला। दक्षिण कोरिया ने पेनाल्टी स्ट्रोक पर गोल कर स्कोर 4-4 से बराबर कर लिया।

indian-hockey

भारत को भी उसके पांचवें प्रयास में गलत टैकल के कारण पेनाल्टी स्ट्रोक मिला और भारतीय टीम ने 5-4 से बढ़त ले ली। इसके बाद भारतीय गोलकीपर ने कोरिया के पांचवें प्रयास को विफल करते हुए जीत भारत की झोली में डाल दिया। इसस पहले, निर्धारित समय के खेल में भारत के लिए तलविंदर सिंह ने 15वें मिनट में टीम और मैच का पहला गोल किया। तलविंदर ने रिवर्स हिट के जरिए यह फील्ड गोल किया।हालांकि भारतीय टीम पहले क्वार्टर में मिली बढ़त को दूसरे क्वार्टर में कायम नहीं रख सकी। मैच के 21वें मिनट में इनवू सीयो के फील्ड गोल की बदौलत कोरिया ने 1-1 से बराबरी कर ली।

इसी स्कोर पर पहला हाफ समाप्त हुआ। दो मैचों से बाहर रहने के बाद इस अहम मैच के लिए टीम में वापस आए श्रीजेश ने पहले हाफ के आखिरी मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर पर शानदार बचाव किया और कोरिया को बढ़त लेने से रोका। इससे पहले 24वें मिनट में रुपिंदर ने कोरियाई टीम के एक और पेनाल्टी कॉर्नर को जाया किया था।तीसरा क्वार्टर गोलरहित रहा और 1-1 से बराबरी के साथ दोनों टीमों ने अंतिम क्वार्टर में प्रवेश किया।

अहम क्षणों में कोरियाई टीम ने बाजी मारी और 53वें मिनट में जिहुन यांग ने पेनाल्टी स्ट्रोक पर गोल कर अपनी टीम को 2-1 से बढ़त दिला दी।लेकिन भारतीय टीम ने कोरिया को ज्यादा देर बढ़त नहीं लेने दिया और दो मिनट बाद ही रमनदीप ने पूर्व कप्तान सरदार सिंह के बेहतरीन पास पर गोल कर टीम को बराबरी पर ला दिया। भारतीय टीम अब खिताबी मुकाबले के लिए पाकिस्तान और मेजबान मलेशिया के बीच होने वाले दूसरे सेमीफाइनल मैच के विजेता से भिड़ेगी।