सर्वे निर्धारित करेगा भाजपा के सिटिंग विधायकों का भविष्य

उत्तराखंड। आगामी विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने अपनी तैयारियां शुरु कर दी है, इसी के तहत भाजपा केंद्रीय नेतृत्व अपने सभी सिटिंग विधायकों के कामकाज व लोकप्रियता के आंकलन के लिए बाकायदा सर्वे करा रही है, सव के आधार पर ही यह निर्णय किया जाएगा कि आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा के सिटिंग विधायकों को टिकट मिले या नही, सर्वे में विधायकों के ट्रैक रिकॉर्ड, जनता में लोकप्रियता और कार्यकुशलता आदि विषयों का धयान रखा जाएगा। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू ने बताया कि आगामी विधानसभा में पार्टी का मकसद है कि जिन भी विधायकों को टिकअ दिया जाए उनका रिकॉर्ड अच्छा हो।

bjp
आपको बता दें कि उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव वर्ष 2017 में होना है जिसके लिए भाजपा ने अपनी तैयारियां शुरु कर दी है।पार्टी के भीतर जहां विधानसभावार चुनावी रणनीति पर भी मशक्कत शुरू हो गई है, वहीं चुनाव में टिकट मिलने या नहीं मिलने को लेकर पार्टी के सिटिंग विधायकों के बीच अभी असमंजस का माहौल बना नजर आ रहा है। इसकी मुख्य वजह है केंद्रीय नेतृत्व की ओर से सिटिंग विधायकों की विधानसभा सीटों पर उनके कामकाज व लोकप्रियता के बारे में कराया जा रहा सर्वेक्षण।

मीडिया से बातचीत में प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू ने माना कि पार्टी के विधायकों के निर्वाचन क्षेत्रों में भी उनके दोबारा जीतने के संदर्भ में सर्वेक्षण कराया जा रहा है। सर्वे के नतीजों के आधार पर ही पार्टी तय करेगी कि किस विधायक को दोबारा टिकट दिया जाएगा और किसे नहीं। ऐसे में साफ है कि पार्टी विधायकों की पांच वर्ष की सक्रियता और क्षेत्रीय विकास में उनके योगदान की परख ही अब उनके चुनावी भविष्य के निर्धारण में महत्वपूर्ण कसौटी बनने जा रही है।