अजमेर में जनआक्रोश रैली में कांग्रेस ने केंद्र सरकार को घेरा

राजस्थान। मोदी सरकार के द्वारा 500-1000 के नोट को बैन कर देने के बाद से सभी राजनीतिक पार्टियां सरकार पर अलग-अलग तरह से हमला बोलने में लगी हुई हैं। इसी बीच राजस्थान में इस फैसले के खिलाफ आवाज उठाने के लिए कांंग्रेस ने जन आक्रोश रैली का आयोजन किया गया, जिसका नेतृत्व सचिन पायलट ने किया। रैली का आगाज गांधी भवन से हुआ जिसके बाद लोगों का हुजूम बढ़ता गया। कांग्रेस के पीसीसी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने इस जन सभा को सम्बोधित कर सरकार पर नोटबैन मुद्दे के साथ-साथ पर हमला बोला।

sachin

पीसीसी चीफ ने इस रैली के दौरान कहा कि इस फैसले के बाद से देश के हर कोने से आम जनता को हो रही परेशानियों की खबर सामने आ रही है। ये आर्थिक आपातकाल की स्थिति है जिसमें नब्बे से ज्यादा लोगों के मरने के लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार है। पायलट ने कहा कि मोदी सरकार ने आगामी विधान सभा चुनाव वाले राज्यों में उपने जानने वालों के लिए पहले ही पैसों की व्यवस्था कर दी है, उन्हें लाइन में लगी देश की जनता की मुसीबतों से कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। इस फैसले से किसी और को नहीं केवल आम आदमी ही परेशान हो रहा है।

सरकार को पहले देश के बाहर गया काला धन वापस लाना चाहिए उसके बाद इस तरह की योजनाएं बनाना चाहिए। इस तरह के निर्णय के पहले आम जनता के हित को भी ध्यान में रखना चाहिए। अव्यवस्थित तरीके इस फैसले को लागू करने से गरीब, असहाय और किसानों को परेशानी का सामना करने पड़ रहा है। देश में लाइनों में लगे नब्बे लोगों की मर जाने पर जांच कमेठी बैठनी चाहिए।