सीमा के पास शिफ्ट हो रहे हैं जैश-ए-मोहम्मद के कैंप

जयपुर। भारत पाकिस्तान के बीच बढ़ी सरगर्मियों के बीच भारत ने स्पष्ट रुप से पाकिस्तान को यह संकेत दे दिया कि भारत किसी भी प्रकार से आतंक को बढ़ावा देने वाले देशों के खिलाफ साथ नहीं है, पीओके में भारत द्वारा किए गए सर्जिकल ऑपरेशन के बाद से पाकिस्तान और उसके पनाह में रह रहे आतंकियों ने भारत को गीदड़ धमकी भी दी है। खबरंे मिल रही हैं कि आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कैंप राजस्थान से सटी पाक सीमा पर शिफ्ट हो रहे हैं। यह सिलसिला पिछले एक माह से चल रहा है।

masood-azhar

राजस्थान से सटे पाक बॉर्डर के आस पास की सुरक्षा को मुस्तैद कर दिया गया है। खुफिया एजेंसियों से सूचना मिलने के बाद पश्चिमी सीमा पर तैनात सेना, बीएसएफ और राजस्थान पुलिस सक्रिय हो गई है। प्रदेश के एक आला पुलिस अधिकारी का कहना है कि सीमा पर सैन्य कैम्प शिफ्ट करने के लिए पाकिस्तानी सरकार समाजसेवा की आड़ में इजाजत दे रही है। सूत्रों के अनुसार, मसूद ने बड़े पैमाने पर राजस्थान से लगती सीमा के करीब अपने गुरु मोहम्मद रशीद के अल-रशीद ट्रस्ट और अपने भाई अल्ला बख्श के ट्रस्ट अल-रहमत ट्रस्ट के नाम पर कैंप शुरू किए हैं।
अल रशीद ट्रस्ट के अंतरराष्टड्ढ्रीय अकाउंट पर पिछले कुछ दिनों से रोक है, इसलिए अल-रहमत ट्रस्ट के नाम पर पैसे इकट्ठा कर इन इलाकों में मस्जिदें और मदरसे बनवाए जा रहे हैं। बहावलपुर का उस्मानो अली सेनेट्री इसका मुख्यालय है। इन हरकतों को लेकर पुलिस और सीमा सुरक्षा बलों की स्थानीय इलाकों में चाक चौबंद बढ़ा दी गई है जिससे किसी भी प्रकार की घटना को रोका जा सके।