पंजाब चुनाव को लेकर प्रदेश में चढ़ा सियासी पारा

चंड़ीगढ़। अकाली दल की कोर कमेटी ने बैठक कर पंजाब के मौजूदा राजनीतिक हालात चर्चा की। अकाली दल की ओर से पंजाब में एक लाख वोटरों पर आधारित सर्वे की रिपोर्ट पर गंभीरता के विचार गया गया। इस सर्वे रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि माझा और दोआबा में अकाली दल का मुकाबला कांग्रेस से होगा, जबकि मालवा में आम आदमी पार्टी से।सीएम प्रकाश सिंह बादल के आवास पर हुई बैठक में फैसला लिया गया कि अकाली दल पंजाब के राजनीतिक माहौल को अपने पक्ष में करने के लिए संगठित होकर कार्यक्रम चलाएगी।जिसमे मुख्यमत्री बादल के जन्मदिन पर बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा जिसको लेकर पार्टी बड़ी तैयारी करेगी जिससे अधिक-अधिक लोगों को जोड़ा जा सकेगा।

punjab_election_1

मिले सर्वे में आप की पहले की अपेक्षा 10 प्रतिशत कम लोगों ने पसंद किया है और अकाली दल का प्रभाव बढ़ता नजर आ रहा है। ऐसे में पार्टी अब जनता को अपने ओर खीचने की हर कवायद करना चाह रही है। बैठक में चर्चा यह भी की गई कि आप का मालवा में अब चाहे पहले जैसा प्रभाव तो नहीं है, लेकिन कई विधानसभा हलकों में आम आदमी पार्टी का हाथ अब भी ऊपर है।

बैठक में अकाली दल के लोगों ने हाल में आये सर्वे में जिसमे कांग्रेस को बढ़त मिलती दिखाया गया था। उसे गलत और कांग्रेस की मिली भगत से आये हुए सर्वे के रूप में करार दिया है। फिलहाल लोगों में कांग्रेस की जगह अकाली को लेकर चर्चा बनी हुई है।बैठक में मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, उप मुख्यमंत्री और पार्टी प्रधान सुखबीर सिंह बादल, राज्यसभा मेंबर बलविंदर सिंह भूंदड़, सुखदेव सिंह ढींडसा, ग्रामीण विकास और पंचायत मंत्री सिकंदर सिंह मलूका व अकाली दल के सीनियर नेता उपस्थित थे।