प्रचंड का 3 दिवसीय भारत दौरा 15 सितंबर से

काठमांडू। नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहाल प्रचंड 15 सितंबर को तीन दिवसीय भारत दौरे पर जाएंगे। उनके इस दौरे के दौरान दोनों देशों के बीच एक बड़ी परियोजना पर हस्ताक्षर होने की संभावना है। काठमांडू पोस्ट की खबर के अनुसार, नेपाल के उप प्रधानमंत्री बिमलेंद्र निधि प्रचंड के विशेष दूत के रूप में अभी भारत दौरे पर हैं। निधि के साथ ही भारतीय अधिकारियों ने रविवार को प्रचंड के दौरे की इस तिथि की पुष्टि की।

pushp kamal

प्रचंड 17 सितंबर को नेपाल लौटेंगे। निधि ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और उन्हें प्रचंड का पत्र सौंपा। भारतीय विदेश मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, प्रचंड ने सूचित किया है कि वह राजनीतिक एवं कूटनीतिक मामलों पर ध्यान केंद्रित करने की जगह विकास कार्य की गति तेज करना चाहते हैं। अधिकारियों ने कहा कि प्रचंड ने अपने देश के विकास कार्य को गति देने के लिए भारत से मदद मांगी है। उम्मीद है कि प्रचंड की यात्रा के दौरान नेपाल और भारत के बीच एक बड़ी परियोजना पर हस्ताक्षर किया जाएगा।

रपट में कहा गया है कि नेपाल के प्रधानमंत्री ने सहमति पत्रों की एक बड़ी सूची भेजी है, जिस पर वह अपनी यात्रा के दौरान हस्ताक्षर कराना चाहते हैं। सूत्रों के अनुसार, प्रचंड ने अपने पत्र में लंबे समय से लटके भारत-नेपाल सीमा से लगी महाकाली नदी पर पंचेश्वर बहुद्देश्यीय परियोजना का काम आगे बढ़ाने की इच्छा जताई है। वर्ष 2014 में अपने नेपाल दौरे के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने पंचेश्वर परियोजना समझौते को प्राथमिकता में शामिल करने का संकल्प लिया था।