उप्रः रिश्वत के आरोप में 3 राज्यमंत्रियों के निजी सचिवों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

उप्रः रिश्वत के आरोप में 3 राज्यमंत्रियों के निजी सचिवों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

उत्तर प्रदेशः टीवी चैनल के स्टिंग ऑपरेशन में खुलासे के बाद पुलिस ने तीन राज्य मंत्रियों के निजी सचिवों को गिरफ्तार किया है। दरअसल इन तबादले, ठेका-पट्टा दिलाने के लिए डीलिंग करने का आरोप है। प्रदेश सरकार ने इस मामले में तीनों को 27 दिसंबर को निलंबित कर दिया था। उसी दिन उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। सरकार ने एसआईटी से 10 दिन में जांच रिपोर्ट मांगी थी।

 

इसे भी पढ़ें-उत्तर प्रदेशः मैनपुरी में रॉकेट लॉन्चर मिलने से मचा हड़कंप

मालूम हो कि शुक्रवार रात हजरतगंज पुलिस ने राज्य के पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ओमप्रकाश राजभर के निजी सचिव ओमप्रकाश कश्यप, खनन मंत्री अर्चना पांडेय के निजी सचिव एसपी त्रिपाठी और बेसिक शिक्षा मंत्री संदीप सिंह के निजी सचिव संतोष अवस्थी को उनके आवास से गिरफ्तार किया। इनको मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया है। आरोपियों की गिरफ्तारी एसआईटी की सिफारिश पर की गई है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एडीजी (लखनऊ) राजीव कृष्णा की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन किया था। हालांकि मुख्यमंत्री ने सभी मंत्रियों को गत सप्ताह अपने विभागों और कार्यालयों में भ्रष्टाचार के बारे में अधिकारियों और कर्मचारियों को जागरूक करने का निर्देश दिया था।

मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने अपने निजी सचिव ओमप्रकाश के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था। राज्यमंत्री अर्चना पांडेय ने भी कहा था कि एसपी त्रिपाठी को सजा जरूर मिलनी चाहिए। टीवी स्टिंग में ओमप्रकाश बेसिक शिक्षा विभाग में तबादले के लिए रिश्वत मांगते दिखाई दिए थे। स्कूलों में बैग और ड्रेस की सप्लाई के ठेके के लिए मंत्री अनुपमा जायसवाल के पति से डील करानेकी बात भी सामने आयी थी।

अर्चना पांडेय के निजी सचिव एसपी त्रिपाठी सहारनपुर समेत छह जिलों में खनन पट्टा दिलाने के लिए डील करते हुए स्टिंग में दिखाई दिए हैं। तीसरा मामला राज्यमंत्री संदीप सिंह के निजी सचिव संतोष अवस्थी का था। अवस्थी को किताबों का ठेका दिलाने के लिए डील करते हुए देखा गया था। जिसमें निजी सचिव अपने हिस्से की मांग कर रहे थे। हालांकि तीनों मंत्रियों को सीएम ने तलब किया था।

इसे भी पढ़ें-उत्तर प्रदेशः कविनगर थाने में तैनात उप-निरीक्षक ने सर्विस पिस्तौल से की आत्महत्या !