बेटे के इलाज के लिए डीएम दफ्तर पहुंची मां, इलाज का मिला आश्वासन

हमीरपुर। हमीरपुर ज़िले में एक गरीब माँ अपने एक पैर से अपाहिज मासूम बच्चे के इलाज के लिये दर दर भटकती हुई जिलाधिकारी की चौखट पर जा पहुंची । इस बीमार बच्चे का एक पैर कट चुका है और पूरे शरीर में मवाद फ़ैल गया है । इन माँ बेटे की आँखों में बेबसी का दर्द साफ दिखाई दे रहा है इस मज़दूर माँ के पास इलाज के लिए पैसे तो दूर कानपुर जाने तक का किराया भी नहीं है ऐसे में एक पैर गवां चुके अपने 5 साल के मासूम बेटे को गोद में लिए जिलाधिकारी कार्यालय में मदद की गुहार लगाने को मजबूर है ।

 हमीरपुर ज़िले के कुरारा विकासखण्ड के पतारा गांव की रहने वाली दिहाड़ी मजदूर कल्ली के छः साल के बेटे (बेटू ) को किसी अन्जान बीमारी की वजह से एक पैर काटना पड़ा , अब उसी कटे पैर में इंफेक्शन की वजह से बेटू के पूरे शरीर में मवाद फ़ैल गया है जिससे बच्चे की जान को भी खतरा हो गया है। बेटू के इलाज के लिए आर्थिक मदद की दरकार लिए आज कल्ली जिलाधिकारी विशाख जी से मिलने उनके दफ्तर पहुंची थी जहां इस बच्चे की स्थिति को देखते हुए जिलाधिकारी ने बच्चे के इलाज के लिए मुख्य चिकित्साधिकारी से स्टीमेट बनवा कर इलाज के लिए सरकारी आर्थिक मदद करने का आश्वाशन दिया है ।

 -सन्तोष चक्रवर्ती