बिहारः तेजप्रताप यादव के जनता दरबार में परियाद लेकर पहुंची JDU कार्यकर्ता

बिहारः तेजप्रताप यादव के जनता दरबार में परियाद लेकर पहुंची JDU कार्यकर्ता

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव के जनता दरबार का आज सातवां दिन था। जनता दरवार का ये सातवां दिन ऐसा रहा जब मुख्य विपक्षी पार्टी और बिहार की सत्ता में काबिज जदयू (जनता दल युनाइटेड) की एक महिला कार्यकर्ता फोजिया रानी तेजप्रताप यादव के दरवार में फरियाद लेकर पहुंची। गौरतलब है कि आज दिन में करीब एक बजे जनता दरबार की शुरुआत हुई,तो फोजिया रानी तेजप्रताप यादव के पास पहुंचकर भाई पुकारते हुए न्याय की गुहार लगाने लगी।

 

बिहारः तेजप्रताप यादव के जनता दरबार में परियाद लेकर पहुंची JDU कार्यकर्ता

इसे भी पढ़ें-तेजप्रताप यादव ने किया सत्तू पार्टी के माध्यम से जनसंवाद, ट्वीट कर दी जानकारी

जनता दरवार में फोजिया रानी ने तेजप्रताप यादव को बताया कि उनका उनके पति के साथ डेढ़ साल पहले तलाक हो चुका है, लेकिन इसके बावजूद उनके पति अभी तक उनको पैसे के लिए परेशान करते हैं। फोजिया ने बताया कि वो राज्य की राजधानी पटना में एक एनजीओ चलाती हैं। उनके पति लगातार उनसे पैसे की मांग करते हैं और घर पर आकर हंगामा करते हैं।

इसे भी पढ़ेंःतेजप्रताप यादव ने नीतीश को NO ENTRY का पोस्टर दिखाया

फोजिया रानी ने कहा कि वो पटना के गर्दनीबाग इलाके की रहने वाली हैं, जबकि उनके पति फुलवारी शरीफ के रहने वाले हैं। फोजिया ने कहा कि उन्होंने इस मामले उक्त दोनों थानों में शिकायत दर्ज कराने की कोशिश की, लेकिन थानों ने उसकी प्राथमिकी दर्ज नहीं की।फोजिया रानी की समस्या सुनने के बाद तेजप्रताप यादव ने तुरंत गर्दनीबाग थाने के प्रभारी को फोन लगाया। तेजप्रताप यादव ने सवाल पूछा कि आखिर वो एक महिला की शिकायत क्यों नहीं दर्ज कर रहे हैं?

तेजप्रताप यादव ने गर्दनीबाग थाने के एसएचओ को कहा कि वो तुरंत इस पूरे मामले में प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच करें। तेजप्रताप की इस कार्रवाई से फोजिया रानी को न्याय की उम्मीद जगी और उन्होंने उनका धन्यवाद किया। इसके बाद वो प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए गर्दनीबाग थाने के लिए रवाना हो गई। सोमवार से तेजप्रताप यादव ने ‘राजद’ के दफ्तर में रोजाना जनता दरबार लगाने का कार्यक्रम शुरू किया है। दिलचस्प है कि 6 दिन तक तेजप्रताप टेबल और कुर्सी पर बैठकर जनता की शिकायत सुनते रहे। रविवार सातवें दिन उन्होंने जमीन पर बैठकर लोगों की शिकायतें सुनी।