सिमी आतंकियों के कब्र पर लगे शिलालेखों में आतंकियाें को बताया गया शहीद

भोपाल। देश में एक ऐसा समय आया जब अचानक आतंकियों के अप्रत्यक्ष समर्थन की कुछ आवाजें उठने लगी, हालांकि इसमें से रिस रिस के सियासत की बू जरुर आ रही थी, लेकिन यह देश की संप्रभुता पर एक सवालिया निशान था कि क्या देश में अब राजनीति को चमकाने के लिए, सुरक्षा व्यवस्था और राष्ट्रप्रेम को दांव पर लगा दिया जाएगा? ऐसे मामले कई बार हुए, बात चाहे याकूब मेमन के फांसी की हो, जहां पर बड़ी संख्या में लोग विरोध करते दिखे, या फिर घाटी में आतंकी बुरहान वानी के इनकाउंटर के बाद से गरमाया माहौल। हाल के दिनों में सिमी के आठ आतंकियों को सेना के जवानों ने मार गिराया था, अब जो खबरें आ रही हैं वो आपको हैरान करने वाली है।

central-jail

खबर एमपी से आ रही है जहां पर सिमी के मारे गए आठ आतंकियों में से पांच के शवों को खंडवा में दफनाया गया था, वहां पर अब इन के कब्रों पर लगाए गए शिलालेखों पर उन्हें शहीद का दर्जा दिया गया है। हालांकि जब इस बात का खुलासा हुआ तो लिखी हुई लाइनों को पेंट कर दिया गया, मगर अब भी शिलालेख वैसे ही लग हुए हैं। बताया जा रहा है कि काले रंग के इन शिलालेखों पर अब तो पेंट कर दिया गया है, बताया जाता है कि इन मार्बल के शिलालेखों के एक हिस्से में आयत और दूसरे में उन्हें शहीद बताते हुए उनकी शहादत का जिक्र किया गया है।

गौरतलब है कि भोपाल के सेंट्रल जेल से दीवाली की रात सिमी के आठ आतंकी फरार हो गए थे, फरार होते समय उन्होंने एक गार्ड की हत्या भी कर दी थी, जिसके बाद इनकी खेाजबीन में पुलिस जुट गई और अगले ही दिन भोपाल के गुनगा थाना क्षेत्र में पुलिस और आतंकियों के बीच जमकर मुठभेड़ हुई जिनमें आठो आतंकी मारे गए।

मारे गए आठ आतंकियों मे से पांच के शव को खंडवा के बड़े कब्रिस्तान में दफनाया गया था। लोगाें को जब इस बात का पता चला तो यह मामला सोशल मीडिया पर वायरल हुआ जिससे प्रशासन ने इस कार्यवाही की और शहादत में लगे स्मारक को पेंट करवा दिया।