बेंगलुरू में छात्र भूख हड़ताल पर, गलत ढंग से फेल करने का आरोप

बेंगलुरू| विश्वेश्वरैया टेक्निकल यूनिवर्सिटी (वीटीयू) के 100 से भी ज्यादा छात्रों ने यह आरोप लगाते हुए कि उनके पेपर्स की गलत ढंग से जांच की गई है, जिसके कारण बड़ी संख्या में छात्र परीक्षा में फेल हो गए, शनिवार को भूख हड़ताल शुरू कर दी। छात्रों ने मांग की है कि फेल हुए छात्रों को अगले सेमेस्टर में प्रवेश दिया जाए, क्योंकि जुलाई सेमेस्टर के पाठ्यक्रमों के पेपर्स की जांच में बड़ी गलती हुई।

banglor

भारतीय राष्ट्रीय छात्र संघ (एनएसयूआई) के सदस्य मनन ने आईएएनएस को बताया, “यहां सभी पाठ्यक्रमों के कुल 4.5 लाख छात्रों में से करीब आधे फेल हुए हैं। उनमें से कई जिन्हें एकल संख्या में अंक मिले थे, पुनर्मूल्यांकन के बाद उन्हें 65 या इससे भी ज्यादा अंक मिले हैं। उन्होंने कहा, “यह यूनिवर्सिटी की गलती है, जिसके कारण छात्रों को हर पेपर के पुनर्मूल्यांकन के लिए 700-1000 रुपये खर्च करने पड़े।हालांकि वीटीयू के रजिस्ट्रार एच.एन. जगन्नाथ रेड्डी ने कहा, “(परीक्षा में फेल होने वाले छात्रों की) संख्या उससे काफी कम है जो छात्र बता रहे हैं। यह यूनिवर्सिटी के वार्षिक औसत से बिलकुल ज्यादा नहीं है। और पुनर्मूल्यांकन के लिए मिले आवेदनों की संख्या भी असामान्य नहीं है।”

रेड्डी ने कहा, “जांच के दौरान मानवीय या तकनीकी भूल हुई होगी। हर साल कुल पेपर्स में से करीब 17 प्रतिशत पुनर्मूल्यांकन के लिए आते हैं। जुलाई सेमेस्टर के लिए भी यह संख्या इतनी ही है। हम सभी छात्रों से अपनी हड़ताल वापस लेने का आग्रह करते हैं।