बारामूला में तलाशी अभियान खत्म, भाग निकले आतंकी

श्रीनगर| उत्तर कश्मीर के बारामूला में एक सैन्य शिविर पर नाकाम हमले के बाद फरार आतंकवादियों की तलाश के लिए व्यापक तलाशी अभियान सोमवार सुबह रोक दिया गया। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जांबाजपोरा में 46 राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर) के शिविर के बाहर दो घंटे तक चली मुठभेड़ के बाद छह घंटे से अधिक समय तक चला तलाशी अभियान रविवार देर रात रोक दिया गया। उन्होंने कहा, “छह घंटे की तलाशी के बाद तलाशी अभियान रोक दिया गया और यातायात बहाल कर दिया गया।

indian-army

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के शिविर पर रविवार रात भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों के हमले में सिपाही नितिन कुमार शहीद हो गए, जबकि सिपाही परमिंदर घायल हो गए।बीएसएफ के कश्मीर फ्रंटियर के महानिरीक्षक विकास चंद्र ने समाचार चैनल टाइम्स नाउ से कहा, “दो सैनिकों को कुछ संदिग्ध गतिविधियां दिखीं। जब उन्होंने इसका कारण जानना चाहा, तो उनपर आतंकवादियों ने ग्रेनेड लॉन्चर से हमला कर दिया। एक ग्रेनेड में विस्फोट होने से नितिन गंभीर रूप से घायल हो गए। वहीं, परमिंदर का पांव इसकी चपेट में आ गया। घायल होने के बावजूद सिपाही नितिन ने कम से कम 20 चक्र गोलियां चलाईं, जबकि परमिंदर ने 48 चक्र गोलियां चलाईं।

अधिकारी ने कहा, “नितिन कुमार ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। लेकिन हमने हमले का जवाब दिया। उन्होंने कहा, “हमने एक वायरकटर जब्त किया है, जो आतंकवादियों के इरादे को दर्शाता है। उन्हें मारा जाना चाहिए था, लेकिन अंधेरे का फायदा उठाकर वे भाग निकलने में कामयाब रहे।अधिकारी ने कहा, “सुरक्षा बल किसी भी स्थिति से निपटने के लिए हाई अलर्ट पर हैं।”

पुलिस ने कहा कि फिदायीन हमलावरों ने सैन्य शिविर पर रविवार रात 10.30 के आसपास हमला किया। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “उन्होंने शिविर में घुसने का प्रयास करने के लिए कवर के तौर पर ग्रेनेड व भारी मशीनगनों का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा, “उन्होंने सैन्य शिविर पर हमला किया, जिसकी निगरानी बीएसएफ के जवान कर रहे थे। लेकिन सुरक्षाबलों ने उनके प्रयास को नाकाम कर दिया।