पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले पर…”ये कहती है आधी दुनिया”

नई दिल्ली। ”क्यूं पैसा पैसा करती है तू”…ये गाना तो आपने कई बार सुना होगा और इसे गुनगुनाया भी होगा। लेकिन आजकल के माहौल में ये गाना एकदम फिट बैठता है। चाहे बूढ़ा हो या जवान इस समय देश में शायद सभी को पैसा चाहिए। दरअसल कालेधन पर लगाम लगाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की देर शाम 500 और 1000 रुपए के नोटों को बैन करने का एक ऐसा ऐतिहासिक फैसला लिया जिससे सियासी गलियारों में खलबली का माहौल पैदा हो गया। एटीएम के बाहर कैश निकालने वालों की लंबी कतारी दिखी तो राजनेताओं ने सरकार पर जमकर निशाना साधा। तो वहीं दिन निकलते ही ये फैसला इतना गर्मा गया कि चारों तरफ से राजनीतिक पार्टियों ने सरकार पर तीखी आलोचना करना शुरु कर दी। कहीं एटीएम में कैश नहीं तो कहीं लोग कई घंटो की मशक्कत के बाद पैसा निकालते हुए दिखे।

pic

आज केंद्र सरकार के इस फैसले को 12 दिन बीत चुके है। इन 12 दिनों में सरकार के इस फैसले के चलते कई बड़े-बड़े बदलाव देखे गए। तो वहीं भारत खबर ने इस पूरे मामले को लेकर जमीनी रिपोर्ट जानने की कोशिश की कि आखिर सरकार के इस फैसले से घर के खर्चों पर कितना फर्क पड़ा?

anjana

 

 

सरकार के इस फैसले पर बात करते हुए अंजना दीक्षित ने कहा कि इससे घर के बजट पर कोई भी फर्क नहीं पड़ रहा है। जैसे पहले हम लोग राशन की लाइन में खड़े थे वैसे ही थोड़ी देर पैसा लेने के लिए बैंकों की लाइन में खड़े हैं। फैसला चाहे किसी भी सरकार ने लिया हो ये फैसला जनता के हित में है और आगे आने वाले समय में इससे फायदा ही होगा। हां ये जरुर है कि थोड़ी बहुत दिक्कत हो रही है लेकिन इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ रहा है।

 

meenakshi-sharma

 

इसके बाद भारत खबर ने सरकार के इस फैसले पर राय जानने के लिए दिल्ली में रहने वाली हाउसवाइफ मीनाक्षी शर्मा से फोन पर बात की। मीनाक्षी ने कहा कि इससे घर पर कोई असर नहीं पड़ रहा है। मुझे बस डेढ़ घंटे लाइन में खड़ा रहना पड़ा। मंदिरों में जाकर भी हम कई घंटे बिना किसी फायदे के खड़े रहते है तो क्या एक अच्छे काम के लिए हम कुछ देर अपना पैसा निकालने के लिए खड़े नहीं हो सकते। मोदी जी ने ये बहुत अच्छा काम किया है इससे देश में जमा काला धन वापस जरुर आएगा। वैसे भी अगर रोजमर्रा की बात करें तो आपको खर्चे के लिए 400 से 500 रुपए की आवश्यकता होती है जितना दिखाया जा रहा है लोगों को उतनी दिक्कत नहीं हो रही है।

 

pratibha-saxena

 

वहीं इस मुद्दे पर बात करते हुए सीनियर सिटीजन और सरकारी नौकरी से रिटायर हुई लखनऊ की रहने वाली प्रतिभा सक्सेना से भारत खबर ने फोन पर बात की और उनसे राय जानने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि सरकार का ये फैसला आने वाले समय के लिए काफी फायदेमंद है। इससे भविष्य में जनता को ही लाभ मिलेगा। हां इससे थोड़ी बहुत दिक्कत कुछ समय के लिए होगी लेकिन धीरे-धीरे करके सब कुछ ठीक होगा।

 

 

neha

 

 

इस मुद्दे पर भारत खबर से फोन पर बात करते पुणे की रहने वाली वर्किंग गर्ल नेहा गुप्ता ने बताया कि सरकार के इस फैसले से मेट्रो सिटीज में रहने वाले लोगों को ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है। हां ये जरुर है कि इससे छोटी जगहों पर रहने वालों लोगों के घरों पर कुछ फर्क पड़ा होगा। इस फैसले के बाद से घर के खर्चों पर थोड़ी कमी आई है लेकिन ये फैसला आने वाले समय के लिए काफी अच्छा है।

 

 

aprajita

 

 

इसके साथ देहरादून की रहने वाली टीचर अपराजिता भारद्वाज ने कहा कि मेट्रो सिटीज में रहने वाले लोगों को ज्यादा दिक्कत नहीं हो रही लेकिन रिमोट एरिए में रहने वाले लोगों को बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इसलिए इस तरह का फैसला लेने से पहले मोदी सरकार को सोचना चाहिए था।

 

 

shipra-saxena (शिप्रा सक्सेना)